पीएम नरेंद्र मोदी की बड़ी घोषणा, मार्च 2022 तक गरीबों को मुफ्त में मिलेगा राशन

प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana) को मार्च 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। पीएम मोदी ने इसकी घोषणा की है। 80 करोड़ से अधिक लोगों को राहत देने के लिए सरकार मुफ्त राशन प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना चला रही है।

Pooja SinghPublish:Mon, 29 Nov 2021 11:47 AM (IST) Updated:Mon, 29 Nov 2021 12:43 PM (IST)
पीएम नरेंद्र मोदी की बड़ी घोषणा, मार्च 2022 तक गरीबों को मुफ्त में मिलेगा राशन
पीएम नरेंद्र मोदी की बड़ी घोषणा, मार्च 2022 तक गरीबों को मुफ्त में मिलेगा राशन

नई दिल्ली, एएनआइ। प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (Pradhan Mantri Garib Kalyan Yojana) को मार्च 2022 तक के लिए बढ़ा दिया गया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने सोमवार को इसकी घोषणा करते हुए कहा कि कोरोना महामारी के दौरान 80 करोड़ से अधिक लोगों को राहत देने के लिए सरकार मुफ्त राशन प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना चला रही है।

प्रधानमंत्री ने शीतकालीन सत्र की शुरुआत से पहले मीडियाकर्मियों को संबोधित करते हुए कहा,' हम देश के 80 करोड़ से अधिक लोगों को मुफ्त अनाज प्रदान करने के लिए प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना चला रहे हैं ताकि उन्हें अधिक समस्याओं का सामना न करना पड़े। इस योजना को अब मार्च 2022 तक बढ़ा दिया गया है।

बता दें कि इस साल की शुरुआत में, केंद्र ने नवंबर तक प्रधानमंत्री गरीब कल्याण योजना (चरण IV) के तहत राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) के लाभार्थियों को अतिरिक्त खाद्यान्न के आवंटन को मंजूरी दी थी। इस योजना के तहत, सरकार एनएफएसए (अंत्योदय अन्न योजना और प्राथमिकता वाले परिवारों) के तहत कवर किए गए अधिकतम 81.35 करोड़ लाभार्थियों को प्रति व्यक्ति प्रति माह 5 किलो खाद्यान्न मुफ्त राशन प्रदान करेगी, जिसमें प्रत्यक्ष लाभ हस्तांतरण (डीबीटी) शामिल हैं।

नए कोरोना वैरिएंट Omicron के लिए बढ़ती चिंताओं के बीच, प्रधानमंत्री ने लोगों से सतर्क रहने का आग्रह किया। पीएम ने कहा, 'हमने महामारी के चुनौतीपूर्ण समय के दौरान कोविड के टीकों की 100 करोड़ से अधिक डोज लगा चुके हैं। अब हम 150 करोड़ खुराक की ओर बढ़ रहे हैं। एक नए कोरोनावायरस वेरिएंट के उभरने की खबर हमें और अधिक सतर्क करती है। हम सभी को सतर्क रहना चाहिए। साथ ही कहा कि शीतकालीन सत्र से पहले पीएम ने यह भी आश्वासन दिया कि सरकार सभी सवालों का जवाब देगी।