दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Cyclone Tauktae: चक्रवाती तूफान टाक्टे ने मचाई तबाही, आज गुजरात का हवाई दौरा करेंगे पीएम नरेंद्र मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की फाइल फोटो ।

गुजरात में चक्रवात टाक्टे से जुड़ी घटनाओं में कम से कम 13 लोगों की जान चली गई जबकि इसकी वजह से तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ। बिजली के खंभे तथा पेड़ उखड़ गए तथा कई घरों व सड़कों को भी नुकसान पहुंचा है।

Dhyanendra Singh ChauhanTue, 18 May 2021 10:05 PM (IST)

नई दिल्ली, एएनआइ। चक्रवाती तूफान टाक्टे ने कई राज्यों को भारी नुकसान पहुंचाया है। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी बुधवार को गुजरात और दीव का दौरा करेंगे और चक्रवाती तूफान टाक्टे के चलते हुए नुकसान की समीक्षा करेंगे। पीएम मोदी ऊना, दीव, जाफराबाद और महुवा जैसे क्षेत्रों का हवाई सर्वेक्षण करेंगे। इसके बाद वह अहमदाबाद में एक समीक्षा बैठक भी करेंगे। गुजरात में चक्रवात टाक्टे से जुड़ी घटनाओं में कम से कम 13 लोगों की जान चली गई जबकि इसकी वजह से तटीय इलाकों में भारी नुकसान हुआ। चक्रवात से हुए नुकसान के सर्वे के बाद सरकार मुआवजा देगी। बिजली के खंभे तथा पेड़ उखड़ गए तथा कई घरों व सड़कों को भी नुकसान पहुंचा है।

गुजरात के मुख्यमंत्री विजय रुपाणी ने कहा कि चक्रवाती तूफान की वजह से 16,000 से ज्यादा घरों को नुकसान पहुंचा है, जबकि 40 हजार से ज्यादा पेड़ और एक हजार से ज्यादा बिजली के खंभे इसकी वजह से उखड़ गए। भारतीय मौसम विज्ञान विभाग (IMD) ने कहा कि टाक्टे अब कमजोर होकर चक्रवाती तूफान में तब्दील हो गया है और जैसे-जैसे उत्तर की तरफ बढ़ेगा यह गहरे दबाव में बदल जाएगा। चक्रवाती तूफान के कारण राज्य के कई हिस्सों में भारी बारिश हुई और करीब 35 तालुका में एक इंच से ज्यादा बारिश दर्ज की गई।

गुजरात के ये जिले रहे चक्रवात से सबसे अधिक प्रभावित

अहमदाबाद में सोमवार शाम से ही बादल छाए रहे और लगातार बारिश होती रही। उत्तर गुजरात के मेहसाणा, पाटन, साबरकांठा, बनासकांठा में भी चक्रवात के कारण बारिश शुरू हो गई। प्रदेश में चक्रवात के कारण 40 हजार से अधिक वृक्ष धराशायी हुए। सरकार का दावा है कि पूर्व तैयारियों के चलते प्रदेश में जान माल का अधिक नुकसान नहीं हुआ। सौराष्ट्र का अमरेली, गीर सोमनाथ, पोरबंदर, राजकोट, भावनगर एवं बोटाद जिला चक्रवात से सबसे अधिक प्रभावित हुए हैं। 

महाराष्ट्र में 6 हजार से ज्यादा गांव प्रभावित

टाक्टे तूफान से 3 दिन में 5 राज्यों में 27 लोगों की मौत हो चुकी है। इनमें सबसे ज्यादा 11 मौतें महाराष्ट्र में हुई हैं। इनमें रायगढ़ जिले से 4, रत्नागिरी और ठाणे से 2-2, सिंधुदुर्ग और धुले जिले से 1-1 शामिल हैं। इसके अलावा एक व्यक्ति की मौत मुंबई के मीरा रोड इलाके में हुई है।

तूफान से महाराष्ट्र में 6 हजार 349 से ज्यादा गांव प्रभावित हुए हैं। इससे पहले सोमवार और रविवार को तूफान की वजह से कर्नाटक के अलग-अलग जिलों में 5 लोगों की मौत हुई थी। वहीं गोवा और तमिलनाडु में 2-2 लोगों की जान गई थी।

तूफान के चलते देश के विभिन्न हिस्सों में 27 लोगों की हुई मौत

बता दें कि दो दिन तबाही मचाने के बाद चक्रवाती तूफान टाक्टे अब कमजोर पड़ने लगा है। बीते दो दिनों में यह तूफान केरल, कर्नाटक, गोवा और महाराष्ट्र में काफी तांडव मचा चुका है। इसके बाद कल देर रात यह गुजरात के तट से टकराया इस दौरान 185 किमी से लेकर 190 किमी प्रतिघंटा की रफ्तार से हवाएं चलती रहीं। इस तूफान के कारण देश के विभिन्न हिस्सों में 27 लोगों की मौत हो गई है। चक्रवाती तूफान के चलते लगभग 100 से अधिक लोग लापता हो गए हैं। 

वहीं, अब चक्रवाती तूफान के चलते देश के कई राज्यों के जिलों में बारिश और हवाओं का दौर शुरू हो चुका है। देश की राजधानी दिल्ली व उत्तर प्रदेश, राजस्थान समेत कई जिलों में मंगलवार की शाम तेज हवाओं के साथ बारिश हुई है व आगे आने वाले दिनों में भी मौसम खराब रहने की चेतावनी जारी की गई है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.