top menutop menutop menu

केरल में गर्भवती हथिनी की हत्या मामले की जांच के लिए तीन टीमें नियुक्त, एक आरोपी गिरफ्तार

तिरुवनंतपुरम, एएनआइ। Kerala Pregnant Elephant Death, केरल के वन मंत्री के राजू ने पलक्कड़ में गर्भवती हाथी की हत्या मामले की जांच के लिए तीन टीमों को नियुक्त किया है। पुलिस भी मामले की जांच कर रही है। उन्होंने कहा कि इस मामले में कड़ी कार्रवाई की जाएगी ताकि ऐसी घटना दोबारा कभी ना हो। गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तारी किया जा चुका है, जबकि कुछ अन्य से इस संबंध में पूछताछ चल रही है।

केरल के वन मंत्री के राजू ने इसकी जानकारी देते हुए बताया है कि केरल के पलक्कड में गर्भवती हथिनी की मौत के मामले में एक आरोपी को गिरफ्तार कर लिया गया है। इससे पहले गर्भवती हथिनी के मौत के मामले में तीन संदिग्धों से गुरुवार को पूछताछ की गई।

क्या है पूरा मामला ?

इस घटना ने देश को झकझोर कर रख दिया। केरल के साइलेंट वैली नेशनल पार्क की एक गर्भवती हथिनी को कुछ लोगों ने पटाखों से भरा अनानास खिला दिया था। अनानास चबाते ही उसमें हुए विस्फोट से हथिनी का जबड़ा बुरी तरह क्षतिग्रस्त हो गया था। हफ्तेभर बाद 27 मई को पलक्कड़ में वेल्लियार नदी में हथिनी की मौत हो गई थी। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में पता चला कि हथिनी गर्भवती थी।

मामला सामने आते ही लोगों में गुस्सा फैल गया। केरल ही नहीं देश के हर कोने से दोषियों को सख्त सजा की आवाज उठी। केरल सरकार ने जांच के लिए वन विभाग की विशेष जांच टीम गठित की है। इस मामले के सामने आने के बाद केरल के वन विभाग ने ट्वीट कर कहा कि हथिनी की मौत के मामले में वन्यजीव संरक्षण कानून की धाराओं के तहत मामला दर्ज किया गया है। कई संदिग्धों से पूछताछ की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा- हर हाल में दोषियों को सजा होगी

देश भर में घटना की हो रही निंदा और लोगों के गुस्से के बीच केरल के मुख्यमंत्री पी विजयन ने बुधवार को कहा था कि कोझिकोड से वन्यजीव अपराध जांच दल को इस मामले की पड़ताल की जिम्मेदारी दी गई है। उन्होंने भरोसा दिलाया है कि दोषियों को हर हाल में सजा होगी।

डूबने से हुई मौत !

हालांकि, इस मामले में हथिनी की पोस्टमार्टम की प्राथमिक रिपोर्ट के मुताबिक नदी में डूबने और ज्यादा पानी शरीर में जाने के कारण हथिनी के फेफड़े ने काम करना बंद कर दिया था। पोस्टमार्टम रिपोर्ट में ये भी पुष्टि हुई है कि मुंह में धमाके के कारण उसका जबड़ा क्षतिग्रस्त हो गया था। असहनीय दर्द के कारण वह कुछ भी खाने-पीने में असमर्थ थी। अत्यधिक कमजोरी के बाद हथिनी नदी में चली गई और वहां डूबने से उसकी मौत हो गई।

यह भी पढ़ें :-

गर्भवती भूखी हथिनी को लोगों ने खिलाया पटाखों से भरा अनानास, तड़प-तड़पकर हुई दोनों की मौत

पशुओं पर अत्याचार देख मौन न रहें, इसमें संविधान और कानून भी देता है आपका साथ

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.