आंध्र प्रदेश ने ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने पर दिया जोर

ओमीक्रोन वेरिएंट के बढ़ते खतरे को देखते हुए कोरोना टीकाकरण पर ज्यादा से ज्यादा जोर दिया जा रहा है। अब आंध्र प्रदेश की सरकार ने भी ओमीक्रोन के खतरे को ध्यान में रखते हुए कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए अधिकारियों से बातचीत की।

Pooja SinghPublish:Tue, 30 Nov 2021 08:26 AM (IST) Updated:Tue, 30 Nov 2021 08:26 AM (IST)
आंध्र प्रदेश ने ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने पर दिया जोर
आंध्र प्रदेश ने ओमीक्रोन के बढ़ते खतरे से निपटने के लिए कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने पर दिया जोर

हैदराबाद, एएनआइ। Omicron variant Updates: ओमीक्रोन वेरिएंट के बढ़ते खतरे को देखते हुए कोरोना टीकाकरण पर ज्यादा से ज्यादा जोर दिया जा रहा है। अब आंध्र प्रदेश की सरकार ने भी ओमीक्रोन के खतरे को ध्यान में रखते हुए कोरोना टीकाकरण प्रक्रिया में तेजी लाने के लिए अधिकारियों से बातचीत की।सोमवार को अमरावती स्थित कैंप कार्यालय में समीक्षा बैठक के दौरान यह चर्चा की गई।

मुख्यमंत्री जगन मोहन रेड्डी ने अधिकारियों को निर्देश दिया कि वे मास्क का उपयोग करने के लिए एक अभियान शुरू करें और यह सुनिश्चित करें कि कोई सामूहिक सभा न हो और घर-घर जाकर सर्वेक्षण हो साथ ही टीकाकरण जारी रखा जाए। उन्होंने अधिकारियों को पूर्व में कोविड रोगियों के इलाज के लिए उपयोग किए जाने वाले अस्पतालों में सुविधाओं की जांच करने और पैनल में शामिल अस्पतालों में सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश भी दिए। उन्होंने अधिकारियों को एक बार फिर क्वारंटाइन सेंटर, कोविड-19 केयर सेंटर और कोविड कॉल सेंटर का निरीक्षण करने के निर्देश दिए हैं।

मुख्यमंत्री ने अधिकारियों को दिसंबर के अंत तक कोरोना टीकाकरण की दो करोड़ खुराकें पूरी करने का लक्ष्य रखने का निर्देश दिया और कहा है कि जिन जिलों में प्रक्रिया धीमी है, उन पर ध्यान केंद्रित किया जाए। उन्होंने अधिकारियों को सभी अस्पतालों में ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्रों का मॉक ड्रिल आयोजित करने का सुझाव दिया। उन्होंने अधिकारियों को बंगलौर, चेन्नई और हैदराबाद के हवाई अड्डों पर विशेष चिकित्सा दल गठित करने और आंध्र प्रदेश में आने वाले लोगों की जांच करने का निर्देश दिया है।