top menutop menutop menu

पुलवामा हमले की साजिश में एक और गिरफ्तार, पाक आतंकी को घाटी पहुंचाने का आरोप

श्रीनगर, जेएनएन। पुलवामा हमले की साजिश के तार खंगाल रही राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने गुरुवार को महत्वपूर्ण सफलता हासिल की। उसने इस साजिश में लिप्त एक और आरोपित मोहम्मद इकबाल राथर को गिरफ्तार कर लिया। इकबाल सितंबर 2018 से एक अन्य मामले में न्यायिक हिरासत में था। पुलवामा हमले में एनआइए अब तक छह आरोपितों को गिरफ्तार कर चुकी है।

40 जवान हुए थे शहीद

मालूम हो कि जम्मू-कश्मीर हाईवे पर पुलवामा के लित्तर में 14 फरवरी 2019 को जैश-ए-मोहम्मद के आत्मघाती आतंकी आदिल डार ने विस्फोटकों से लदी कार के साथ सीआरपीएफ के काफिले पर हमला किया था। हमले में 40 सीआरपीएफ कर्मी शहीद हो गए थे।

आतंकी उमर फारूक की मदद की थी

एनआइए के प्रवक्ता ने बताया कि मोहम्मद इकबाल राथर चरार-ए-शरीफ के अब्दुल खालिक राथर का बेटा है। इकबाल ने पुलवामा हमले में इस्तेमाल वाहन बम का तैयार करने वाले पाकिस्तानी आतंकी मोहम्मद उमर फारूक को अप्रैल 2018 में अंतरराष्ट्रीय सीमा के पास एक जगह विशेष से घाटी में पहुंचाया था।

सितंबर 2018 में पकड़ा गया था

मोहम्मद इकबाल को पुलवामा हमले से पहले एक अन्य आतंकी वारदात के सिलसिले में सितंबर 2018 में पकड़ा गया था। यह वारदात भी जैश ने ही अंजाम दी थी। न्यायिक हिरासत में बंद मोहम्मद इकबाल को जेल प्रशासन ने एनआइए की विशेष अदालत में पेश किया। अदालत में उससे पूछताछ की आवश्यकता बताते हुए एनआइए ने उसे सात दिन के रिमांड पर लिया।

प्रमुख कमांडरों से संपर्क में था इकबाल

जांच में पता चला है कि 25 वर्षीय मोहम्मद इकबाल राथर जैश के पाकिस्तान में बैठे प्रमुख कमांडरों के साथ एक मोबाइल एप के जरिये लगातार संपर्क में था। वह जैश के पाकिस्तानी आतंकियों को जम्मू प्रांत के विभिन्न हिस्सों से घाटी पहुंचाने वाले आतंकी माड्यूल का अहम सदस्य था। उससे पूछताछ जारी थी।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.