छोटे और मझोले शहरों में तत्काल स्वास्थ्य ढांचा तैयार करने की जरूरत, कोरोना की दूसरी लहर में ग्रामीण क्षेत्र हो रहे प्रभावित

एनसीडीसी निदेशक ने कोरोना पर गठित मंत्रिमंडलीय समूह को किया आगाह

मंत्रिमंडलीय समूह की बैठक में एनसीडीसी के निदेशक ने विदेशों के साथ-साथ भारत में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति पर विस्तृत ब्योरा पेश किया। उन्होंने बताया कि किस तरह भारत में कोरोना की दूसरी लहर छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों को अपनी चपेट में ले रही है।

Dhyanendra Singh ChauhanSat, 08 May 2021 09:55 PM (IST)

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कोरोना संक्रमण की दूसरी लहर की चपेट में ग्रामीण इलाकों के आने के मद्देनजर छोटे और मझोले शहरों में स्वास्थ्य ढांचे को तत्काल तैयार करने की जरूरत है। कोरोना पर गठित मंत्रिमंडलीय समूह की बैठक में नेशनल सेंटर फॉर डिजीज कंट्रोल (NCDC) के निदेशक सुजीत कुमार सिंह ने इसके लिए आगाह किया। वहीं, केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने बताया कि देश के नौ लाख मरीज आक्सीजन सपोर्ट और 1.7 लाख मरीज वेंटिलेटर पर हैं।

मंत्रिमंडलीय समूह की बैठक में एनसीडीसी के निदेशक ने विदेशों के साथ-साथ भारत में कोरोना संक्रमण की मौजूदा स्थिति पर विस्तृत ब्योरा पेश किया। उन्होंने बताया कि किस तरह भारत में कोरोना की दूसरी लहर छोटे शहरों और ग्रामीण इलाकों को अपनी चपेट में ले रही है। ऐसे इलाकों में टेस्टिंग के साथ-साथ इलाज की सुविधाओं के अभाव के कारण स्थिति खराब हो सकती है। उन्होंने हालात से निपटने के लिए छोटे और मझोले शहरों में तत्काल टेस्टिंग की सुविधा बढ़ाने के साथ ही अस्पताल बनाने की जरूरत बताई।

ध्यान देने की बात है कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दो दिन पहले ही केंद्र सरकार के सभी विभागों को कोरोना के इलाज के लिए स्वास्थ्य ढांचे के निर्माण में राज्यों की मदद का निर्देश दिया था। नीति आयोग के सदस्य डॉ. वीके पॉल ने विस्तार से बताया कि कोरोना के खिलाफ लड़ाई में देश में किस तरह से आधारभूत संरचना का निर्माण किया जा रहा है।

बैठक में हर्षवर्धन ने बताया कि मौजूदा समय में 3.70 फीसद यानी 9,02,291 मरीज आक्सीजन सपोर्ट, 0.39 फीसद यानी 1,70,841 लाख मरीज वेंटिलेटर और 1.34 फीसद यानी 4,88,861 मरीज आइसीयू में हैं।

दूसरी डोज जरूर लेने की अपील

हर्षवर्धन ने मंत्रिमंडल समूह को देश में चल रहे टीकाकरण अभियान की भी जानकारी दी। उन्होंने लोगों से कोरोना से पूरी तरह बचाव के लिए वैक्सीन की दूसरी डोज जरूर लेने की अपील की। साथ ही राज्यों से केंद्र से मिलने वाले 70 फीसद वैक्सीन का इस्तेमाल दूसरे डोज देने में करने को कहा।

आक्सीजन समेत कई मुद्दों पर चर्चा

बैठक में आक्सीजन समेत अन्य जरूरी दवाओं की उपलब्धता और सप्लाई पर भी चर्चा हुई और संबंधित मंत्रालयों को इसके लिए सभी उचित कदम उठाने की सलाह दी गई।

बैठक में कौन-कौन हुए शामिल

वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिये हुई बैठक में विदेश मंत्री एस. जयशंकर, नागरिक उड्डयन मंत्री हरदीप सिंह पुरी, रसायन और उर्वरक राज्यमंत्री मनसुख मांडविया, गृह राज्यमंत्री नित्यानंद राय, स्वास्थ्य राज्यमंत्री अश्विनी चौबे भी मौजूद रहे।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.