अब अस्थाना की जगह एनसीबी का प्रभार एनडीआरएफ महानिदेशक ने संभाला

राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने गुरुवार को मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के प्रमुख का अतिरिक्त कार्यभार संभाल लिया। प्रधान ने भारतीय पुलिस सेवा (आइपीएस) के अधिकारी राकेश अस्थाना की जगह ली। पढ़ें पूरी खबर।

Pooja SinghFri, 30 Jul 2021 02:19 AM (IST)
अब अस्थाना की जगह एनसीबी का प्रभार एनडीआरएफ महानिदेशक ने संभाला

नई दिल्ली, प्रेट्र। राष्ट्रीय आपदा मोचन बल (एनडीआरएफ) के महानिदेशक एसएन प्रधान ने गुरुवार को मादक पदार्थ नियंत्रण ब्यूरो (एनसीबी) के प्रमुख का अतिरिक्त कार्यभार संभाल लिया। प्रधान ने भारतीय पुलिस सेवा (आइपीएस) के अधिकारी राकेश अस्थाना की जगह ली।

अस्थाना को दिल्ली पुलिस आयुक्त नियुक्त किया गया है।ट्विटर पर पदभार ग्रहण करने की तस्वीरों को साझा करते हुए झारखंड कैडर के 1988 बैच के आइपीएस अधिकारी प्रधान ने लिखा, 'आशा है कि मैं मादक और साइकोट्रापिक पदार्थो के खिलाफ राष्ट्रीय मिशन को आगे बढ़ाने में अपना योगदान दूंगा।

'केंद्रीय गृह मंत्रालय की ओर से बुधवार को जारी आदेश में प्रधान से तत्काल प्रभाव से एनसीबी के महानिदेशक का अतिरिक्त प्रभार संभालने को कहा गया था। वर्ष 1984 बैच के आइपीएस अधिकारी अस्थाना जुलाई, 2019 से एनसीबी के महानिदेशक का अतिरिक्त प्रभार संभाल रहे थे।

गौरतलब है कि गुजरात काडर के वरिष्ठ आइपीएस अधिकारी राकेश अस्थाना ने बुधवार दोपहर दिल्ली पुलिस मुख्यालय पहुंचकर दिल्ली पुलिस कमिश्नर का कार्यभार संभाला था। मंगलवार को केंद्रीय गृहमंत्रालय की ओर से राकेश अस्थाना की ओर से दिल्ली पुलिस का नया आयुक्त बनाने का एलान किया गया था। केंद्रीय गृह मंत्रालय के आदेश के मुताबिक, सीमा सुरक्षा बल (बीएसएफ) के महानिदेशक राकेश अस्थाना को तत्काल प्रभाव से अपना पद संभालने को कहा गया था।

बता दें कि सीबीआई और बीएसएफ के महानिदेशक रहे राकेश की गिनती तेजतर्रार अधिकारियों में होती है। राकेश अस्थाना ने चारा घोटाला मामले में लालू यादव के खिलाफ चार्जशीट दाखिल किया था। उसके बाद 1997 में लालू की गिरफ्तारी हुई। उन्होंने 2002 के गोधरा दंगे और फिर 2008 में अहमदाबाद में हुए सीरियल ब्लास्ट की भी जांच की। आसाराम बापू केस की जांच में भी वह शामिल रहे हैं।

पदभार ग्रहण करने के बाद नवनियुक्त पुलिस आयुक्त राकेश अस्थाना ने कहा था कि टीम भावना के साथ काम करके दिल्ली में कानून व्यवस्था को बेहतर किया जाएगा । दिल्ली पुलिस ने पूर्व में कई कठिन मामलों को सुलझाया है। हमारा फोकस बेसिक पुलिसिंग पर रहेगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.