top menutop menutop menu

68 लाख की डकैती में फंसाने की धमकी देकर पुलिसवालों ने पांच लाख वसूले, जानिए पूरी कहानी

68 लाख की डकैती में फंसाने की धमकी देकर 'पुलिसवालों' ने पांच लाख वसूले, जानिए पूरी कहानी
Publish Date:Mon, 10 Aug 2020 06:15 AM (IST) Author: Arun Kumar Singh

इंदौर, राज्‍य ब्‍यूरो। मध्य प्रदेश के इंदौर में कोलकाता के कारोबारी को 68 लाख की डकैती और हवाला के जुर्म में फंसाने की धमकी देकर 'पुलिसवालों' ने पांच लाख रुपये वसूल लिए। ब्लैकमेलिंग का कर्ताधर्ता एक फर्जी एडवाइजरी कंपनी का संचालक है। उसने निवेश की राशि देने के बहाने फ्लाइट से बुलाया था। क्राइम ब्रांच ने आरोपितों के बैंक खाते फ्रीज करवा दिए हैं। शक है कि वारदात में इंदौर के राजेंद्र नगर के पुलिसकर्मी और सुरक्षा एजेंसी संचालक शामिल हैं। पुलिस मोबाइल लोकेशन के आधार पर आरोपितों के ठिकानों पर छापे मार रही है।

इंदौर में कोलकाता के कारोबारी के साथ वारदात

वारदात संतोषपुर कोलकाता निवासी 43 वर्षीय तीर्थकर अनिल कुमार घोष के साथ हुई है। घोष ने फर्जी एडवाइजरी कंपनी के संचालक सुधीर उपाध्याय और दो अन्य के विरूद्ध धोखाधड़ी व ब्लैकमेलिंग का केस दर्ज करवाया है। आरोपित सुधीर सिलिकॉन सिटी ट्रेडबुल और वेंचर कैपिटल एडवाइजरी फर्म चलाता है। उसने पहले रुपये दोगुने करने का प्रलोभन देकर घोष से अलग-अलग खातों में 22 लाख रुपये जमा करवा लिए। एक महीने पूर्व 68 लाख रुपये मुनाफा दर्शाया और छह अगस्त को उन्हें फ्लाइट से इंदौर बुला लिया। रात करीब 10.30 बजे सुधीर ने एक होटल में ठहरे घोष से मुलाकात की और रुपये देने के बहाने सिलिकॉन सिटी की ओर ले गया। करीब दो घंटे तक इधर-उधर घुमाने के बाद अंधेरे में खड़ी एक लाल रंग की कार के समीप गाड़ी रोक ली। कार सवारों से कुछ देर चर्चा की और भारी बैग निकालकर कार में रख लिया।

रुपयों से भरा बैग रखते ही पुलिस आ धमकी, रातभर पीटते रहे

फरियादी ने पुलिस को बताया कि जैसे ही रुपयों से भरा बैग लेकर निकले, एक गाड़ी में पुलिसवाले आ धमके। गाड़ी की तलाशी ली और रुपयों से भरा बैग देख लिया। उनकी पिटाई की और कहा कि रुपये डकैती या हवाला के हैं। गिरफ्तार करने की धमकी देकर घोष से एक अन्य शेयर कंपनी के खाते में पांच लाख रुपये ट्रांसफर करवा लिए। उनकी रातभर पिटाई की और सुबह एयरपोर्ट छोड़ दिया। एक परिचित की मदद से घोष क्राइम ब्रांच पहुंचे और डीआइजी हरिनारायणाचारी मिश्र को शिकायत कर केस दर्ज करवाया। क्राइम ब्रांच और राजेंद्र नगर थाना पुलिस ने सुधीर के ठिकानों पर छापा मारा लेकिन फरार हो गया।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.