MP Board 2021: बन रहा नया फार्मूला, दसवीं- बारहवीं के अंकों के आधार पर बनेगा बारहवीं का रिजल्ट

दसवीं के सभी विषयों का 12वीं के विषयों से मैपिंग कर 60 फीसद से अधिक अंक लिए जाएंगे और 20 फीसद बारहवीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट तैयार किए जाने की तैयारी है। आंतरिक मूल्यांकन के 20 फीसद अंक स्कूल वाले देंगे।

Arun Kumar SinghTue, 15 Jun 2021 09:04 PM (IST)
मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिम) का बारहवीं कक्षा के रिजल्ट का फार्मूला

भोपाल, राज्य ब्यूरो। मध्य प्रदेश माध्यमिक शिक्षा मंडल (माशिम) का बारहवीं कक्षा के रिजल्ट का फार्मूला बुधवार-गुरुवार तक तैयार हो जाएगा। मंत्री समूह और स्कूल शिक्षा विभाग ने फार्मूला तैयार करने की कवायद तेज कर दी है। पहले में दसवीं, ग्यारहवीं व बारहवीं के अंकों को आधार बनाकर रिजल्ट निकालने का फार्मूला तैयार किया गया था, लेकिन निजी स्कूल संचालकों ने उसे खारिज कर दिया। उन्होंने कहा कि हमारे पास पिछले साल की ग्यारहवीं कक्षा का रिजल्ट नहीं है। ऐसे में बारहवीं का रिजल्ट तैयार करने का फार्मूला बदला जाए। अधिकारियों की टीम नया फार्मूला तैयार कर मंगलवार को मंत्री समूह के सामने रखने वाली थी, जिस पर मंत्री समूह की मुहर लगना थी, लेकिन बैठक ही नहीं हो पाई।

यह फार्मूला हुआ फेल

विभाग के उच्च अधिकारियों ने दसवीं का 50 फीसद, ग्यारहवीं व बारहवीं की छमाही व वार्षिक परीक्षा के आधार पर 25--25 फीसद अंकों के आधार पर मूल्यांकन का फार्मूला तैयार कर लिया था। जिसे प्राइवेट स्कूल एसोसिएशन के विरोध के कारण मंत्री समूह ने निरस्त कर दिया। है।

अब बना यह फार्मूला

अब दसवीं बोर्ड परीक्षा का परिणाम व बारहवीं के रिवीजन और छमाही परीक्षा के आधार पर बारहवीं का फार्मूला तैयार होगा, लेकिन इस आधार पर भी मूल्यांकन करना मुश्किल होगा। दसवीं में छह विषय होते हैं और बारहवीं में 12 से 15 विषय। ऐसे में दसवीं के प्रत्येक विषय के किस विषय की मैपिंग कर उसके अंक को बारहवीं में जोड़ा जाए, इसका फार्मूला बनाया जा रहा है।

दसवीं के सभी विषयों का 12वीं के विषयों से मैपिंग कर 60 फीसद से अधिक अंक लिए जाएंगे और 20 फीसद बारहवीं के आंतरिक मूल्यांकन के आधार पर रिजल्ट तैयार किए जाने की तैयारी है। आंतरिक मूल्यांकन के 20 फीसद अंक स्कूल वाले देंगे। इस फार्मूले को मंत्री समूह से अनुमति मिलने के बाद रिजल्ट तैयार करने पर विचार किया जाएगा।

स्कूल शिक्षा राज्यमंत्री इंदर सिंह परमार ने कहा कि मंगलवार को मंत्री समूह की बैठक नहीं हो पाई। निजी स्कूलों के विरोध के कारण अब ग्यारहवीं कक्षा के अंक शामिल नहीं किए जाएंगे, बल्कि दसवीं और बारहवीं के अंकों के आधार पर नया फार्मूला तैयार किया गया है। मंत्री समूह एक- दो दिन में नए फार्मूले पर विचार कर निर्णय ले लेगा।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.