राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के पास ढाई करोड़ से अधिक बची हैं वैक्सीन: स्वास्थ्य मंत्रालय

राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों को केंद्र से मुफ्त दी जारी कोरोना वैक्सीन की खुराकों का आंकड़ा जारी करते हुए केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने आज बताया कि अभी 2.60 करोड़ से अधिक खुराकें इनके पास इस्तेमाल के लिए शेष हैं।

Monika MinalWed, 04 Aug 2021 03:34 PM (IST)
राज्यों/केंद्रशासित प्रदेशों के पास ढाई करोड़ से अधिक बची हैं वैक्सीन: स्वास्थ्य मंत्रालय

नई दिल्ली, एएनआइ। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्रालय ने बुधवार को देश भर में केंद्र की ओर से उपलब्ध कराए गए कोरोना वैक्सीन का आंकड़ा जारी किया। मंत्रालय ने बताया कि अब तक राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को वैक्सीन की 50.37 करोड़ से ज़्यादा खुराकें उपलब्ध कराई गई है और अभी इके पास वैक्सीन की 2.60 करोड़ से ज़्यादा खुराक इस्तेमाल के लिए बची हुई है।

उत्तर प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री जय प्रताप सिंह ने आज बताया, 'केंद्र से हमें वैक्सीन मिलती है, उसी के आधार पर हम वैक्सीनेशन कार्यक्रम चलाते हैं। कल प्रदेश में 28 लाख से ज़्यादा वैक्सीन लगाई गई। केंद्र से हमें जितनी ज़्यादा वैक्सीन उपलब्ध होगी उतनी जल्दी हम पूरे प्रदेश को वैक्सीनेट कर सकते हैं।'

देश में 16 जनवरी से कोविशील्ड और कोवैक्सीन के साथ कोरोना वैक्सीनेशन अभियान की शुरुआत की गई जो अब तक जारी है। देश में रूसी वैक्सीन स्पुतनिक वी भी उपलब्ध है और अगले कुछ महीनों में अमेरिका से मॉडर्ना और फाइजर के आने की भी संभावना है। मंत्रालय ने आज बताया कि अब तक देश में कुल वैक्सीनेशन का आंकड़ा 48,52,86,570 हो गया है जिसमें से बीते 24 घंटों में कोरोना वायरस की 62,53,741 वैक्सीन लगाई गईं हैं।

मंत्रालय द्वारा दिए गए आंकड़ों के मुताबिक भारत में पिछले 24 घंटों में कोरोना वायरस के 42,625 नए मामले आए, 36,668 रिकवरी हुईं और 562 लोगों की कोरोना से मौत हो गई। भारत में महामारी की शुरुआत से लेकर अब तक कुल 3,17,69,132 संक्रमण के मामले आए ओर 4,25,757 मौतें हुई हैं। देश में अभी 4,10,353 सक्रिय मामले हैं। हालांकि अब तक इस घातक संक्रमण को मात देने वालों की संख्या 3,09,33,022 है।

बता दें कि अमेरिकी राष्ट्रपति जो बाइडन ने अमेरिका, भारत समेत कई देशों को वैक्सीन उत्पादन में हरसंभव मदद करने की पेशकश की है। राष्ट्रपति ने कहा है कि अमेरिका दुनिया को वैक्सीन की आधा अरब खुराक देने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने भारत का जिक्र करते हुए कहा कि जो देश खुद वैक्सीन का उत्पादन करने में सक्षम हों, इसके लिए और अधिक क्षमता प्रदान करने का प्रयास हो रहा है। हम ऐसा करने में उनकी मदद कर रहे हैं। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.