मोदी सरकार ने अफगान में रहने वाले भारतीयों को सतर्क रहने को कहा, तालिबान के हमले तेज, कई जिलों में कब्जा

अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान पूरे देश पर कब्जा करने की कोशिशों में जुट गया है। अफगानिस्तानी फौज और तालिबानी लड़ाकों के बीच लड़ाई तेज हो गई है। तालिबान ने कई जिलों में कब्जा जमा लिया है।

Bhupendra SinghSat, 24 Jul 2021 10:15 PM (IST)
खराब होते हालात में भारतीयों को अगवा किए जाने का खतरा भी बढ़ा

नई दिल्ली, प्रेट्र। तालिबान के हमले के बाद अफगानिस्तान में विभिन्न प्रांत में भड़की हिंसा को देखते हुए सरकार ने वहां रहने वाले भारतीयों से अत्यधिक सतर्क रहने को कहा है। सरकार ने यह भी कहा है कि वहां भारतीयों को अगवा किए जाने का खतरा भी बढ़ गया है।

आतंकी गुटों ने नागरिकों को निशाना बनाना शुरू कर दिया: भारतीय दूतावास

भारतीय दूतावास ने नवीनतम सलाह में कहा है कि अफगानिस्तान में सक्रिय आतंकी गुटों ने नागरिकों को निशाना बनाना शुरू कर दिया है और इसको देखते हुए भारतीयों को मुख्य शहरों से बाहर नहीं निकलना चाहिए। इससे पहले दूतावास ने 29 जून को भी सभी के लिए एडवाइजरी जारी की थी।

अफगानिस्तान आने वाले भारतीय मीडियाकर्मियों को दूतावास से संपर्क करने को कहा

दूतावास ने अफगानिस्तान आने वाले भारतीय मीडियाकर्मियों से उससे संपर्क करने को कहा, ताकि उन्हें खतरों के बारे में बेहतर तरीके से समझाया जा सके। दूतावास ने 16 जुलाई को कंधार में भारतीय फोटो पत्रकार दानिश सिद्दीकी की हत्या का जिक्र भी किया है।

दूतावास ने कहा- अफगानिस्तान के कई प्रांतों में सुरक्षा की स्थिति खतरनाक

दूतावास ने कहा कि अफगानिस्तान के कई प्रांतों में सुरक्षा की स्थिति खतरनाक बनी हुई है। नागरिकों को निशाना बनाया जा रहा है और भारतीय कोई अपवाद नहीं हैं। भारतीयों के सामने अगवा किए जाने का खतरा भी बना हुआ है।

अमेरिकी सेना के लौटने के बाद तालिबान के हमले में आई तेजी, कई जिलों में कब्जा

गौरतलब है कि अफगानिस्तान से अमेरिकी सेना की वापसी के बाद तालिबान पूरे देश पर कब्जा करने की कोशिशों में जुट गया है। अफगानिस्तानी फौज और तालिबानी लड़ाकों के बीच लड़ाई तेज हो गई है। तालिबान ने कई जिलों में कब्जा जमा लिया है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.