ड्रग तस्करी मामले में इंदौर में गिरफ्तारी, मुंबई ब्लास्ट और गुलशन कुमार हत्याकांड के आरोपी भी शामिल

पिछले दिनों इंदौर से पकड़े गए ड्रग तस्करों से पूछताछ में सामने आए थे इनके नाम

एडीजी योगेश देशमुख के मुताबिक बीते दिनों 70 करोड़ रुपये बाजार मूल्य की मिथाइलीन डाइऑक्सी मेथेमफेटामाइन के साथ पकड़े गए दिनेश अग्रवाल अशफाक उर्फ एससी राज और रईस उर्फ रईसुद्दीन के मोबाइल इंटरनेट अकाउंट्स और बैंक खातों की जांच के दौरान अय्यूब और वसीम के बारे में सुराग मिले थे।

Neel RajputSun, 24 Jan 2021 10:50 PM (IST)

इंदौर, जेएनएन। मध्य प्रदेश के इंदौर की क्राइम ब्रांच ने शनिवार रात मुंबई सीरियल ब्लास्ट के आरोपित अय्यूब इब्राहिम कुरैशी (मुंबई) और गुलशन कुमार हत्याकांड के आरोपित वसीम उर्फ बाबू उर्फ असलम खान (नासिक) को ड्रग तस्करी के आरोप में गिरफ्तार किया है। अय्यूब डी कंपनी (दाउद इब्राहिम से संबंधित) से जुड़ा है। आरोपित वसीम भी गायक व टी सीरीज के मालिक गुलशन कुमार हत्याकांड में सहअभियुक्त रहा है। पुलिस का दावा है कि वसीम के तार अबू सलेम से जुड़े हैं। दोनों आरोपित एमडीएमए तस्कर दिनेश अग्रवाल, रईस उर्फ रईसुद्दीन और अशफाक से एमडीएमए खरीदते थे।

मुंबई ब्लास्ट मामले में अय्यूब को पांच साल की सजा हुई थी, जबकि हत्याकांड में वसीम तीन साल जेल में रहने के बाद बरी हो गया था। एडीजी योगेश देशमुख के मुताबिक, बीते दिनों 70 करोड़ रुपये बाजार मूल्य की मिथाइलीन डाइऑक्सी मेथेमफेटामाइन (एमडीएमए) के साथ पकड़े गए दिनेश अग्रवाल, अशफाक उर्फ एससी राज और रईस उर्फ रईसुद्दीन के मोबाइल, इंटरनेट अकाउंट्स और बैंक खातों की जांच के दौरान अय्यूब और वसीम के बारे में सुराग मिले थे। पुलिस ने सख्ती की तो तस्कर टूट गए और बताया कि वसीम और अय्यूब को करीब पांच सालों से एमडीएमए सप्लाई कर रहे हैं। ज्यादातर ड्रग लॉकडाउन के दौरान बेची गई थी। इंदौर रेंज के आइजी हरिनारायणाचारी मिश्र के मुताबिक पुलिस को मुंबई, नासिक के कुछ अन्य तस्करों की जानकारी भी मिली है।

कबाड़ी बनकर अंडरव‌र्ल्ड में घुसी क्राइम ब्रांच

आइजी मिश्र के मुताबिक, आरोपित 50 वर्षीय वसीम पुत्र बाबू खान निवासी मुंबई 1997 में चर्चित गुलशन कुमार हत्याकांड में शामिल था। इन दिनों वह साईनाथ नगर नासिक में स्क्रैप खरीदने-बेचने का काम करने लगा था। आरोपित अय्यूब पुत्र इब्राहिम कुरैशी निवासी मुंबई सामाजिक कार्यकर्ता बन गया था। 1993 में मुंबई के सीरियल बम ब्लास्ट का आरोपित अय्यूब रेलवे की पार्किंग के ठेके लेता था। क्राइम ब्रांच के सिपाही पहले कबाड़ी बनकर वसीम के पास पहुंचे और मौका मिलते ही हिरासत में ले लिया। उसके माध्यम से अय्यूब को बुलाया और मुंबई की निर्मल नगर पुलिस अफसरों की मदद लेकर इंदौर ले आए।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.