top menutop menutop menu

आठ घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचाई गई ट्रेन के लोको पायलट की जान, अब हालात में सुधार

आठ घंटे के रेस्क्यू ऑपरेशन के बाद बचाई गई ट्रेन के लोको पायलट की जान, अब हालात में सुधार
Publish Date:Tue, 12 Nov 2019 01:28 PM (IST) Author: Ayushi Tyagi

 हैदराबाद, पीटीआइ। हैदराबाद में ट्रेन की टक्कर के बाद एक लोको पायलट केबिन में फंस गया। उसे बचाने के लिए करीब आठ घंटे तक ऑपरेशन चला। हालांकी आठ घंटे की ये महनत रंग लाई और लोको पायलट को बचा लिया गया। सोमवार को लोकल ट्रेन  मल्टी-मोडल ट्रांसपोर्ट सिस्टम (MMTS) के लोकों पायलट चेंद्रशेखर को बचाए जाने के बाद एक निजी अस्पताल में भर्ती करवाया गया। 

सोमवार को हुई थी घटना

दरअसल, सोमवार को सुबह 10.30 बजे के करीब कचेगुडा स्टेशन पर एमएमटीएस ट्रेन से टकरा गई थी। इस हादसे में करीब 16 लोग घायल हो गए थे। को पायलट को आठ घंटे लंबे ऑपरेशन के बाद एजेंसियों ने बचा लिया। अधिकारियों का कहना है कि सभी घायलों को भी तुरंत ही अस्पताल में भर्ती करवा दिया गया था। उन्होंने बताया कि लोको पायलट की स्थिति में भी पहले से काफी सुधार है। घायल हुए यात्री भी सुरक्षित हैं। घायल हुए 16 यात्रियों में से 9 को तो सोमवार को ही छुट्टी दे दी गई थी। सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, बाकी बचे सात लोगों में से किसी की हालत गंभीर नहीं है। 

इस तरह हुआ हादसा

बताया जा रहा है कि सोमवार को कोंगु एक्सप्रेस प्लैटफॉर्म पर खड़ी इंतजार कर रही थी। तभी लोकल (एमएमटीएस) ट्रेन ने उसे टक्कर मार दी। हादसे की प्रमुख वजह सिग्नल की गलती बताया जा रहा है। हादसे के तुरंत बाद ही रेलवे और स्थानीय प्रशासन के अधिकारी पहुंच गए थे। 

दक्षिण मध्य रेलवे द्वारा जारी की गई प्रेस रिलीज के अनुसार, इस हादसे में मएमटीएस ट्रेन के छह डिब्बे और एक्सप्रेस ट्रेन के तीन डिब्बे बुरी तरह से क्षतिग्रस्त हो गए हैं। ट्रेन में सवार एक महिला यात्री ने बताया कि काचीगुडा रेलवे स्टेशन पर पहुंचते ही अचानक से यात्रियों को बड़ा झटका महसूस हुआ। हादसे में कई यात्रियों के सिर और घुटने में चोट आई थी।   

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.