नई परेशानियों में घिरा केरल : बाढ़ झेल चुके राज्‍य में अब नदियां और कुएं सूखने लगे

 तिरुअनंतपुरम, प्रेट्र। बाढ़ की त्रासदी का सामना कर चुका केरल अब नई परेशानियों में घिरा नजर आ रहा है। पारा चढ़ने के साथ ही राज्य में नदियां एवं कुओं के सूखने की जानकारी मिल राही है। कई हिस्सों में भूजल का स्तर गिर रहा है। राज्य सरकार ने बाढ़ के बाद उत्पन्न स्थिति का वैज्ञानिक अध्ययन कराने का फैसला लिया है। मुख्यमंत्री पिनराई विजयन ने राज्य विज्ञान, तकनीक एवं पर्यावरण परिषद को प्रदेश में बाढ़ के बाद की स्थिति का अध्ययन करने और उत्पन्न समस्या का समाधान सुझाने का निर्देश दिया है।

पिछले महीने डेंगू का सामना करने के बाद केरल के विभिन्न हिस्सों से कई चिंताजनक जानकारी सामने आई है। पारा चढ़ने के साथ ही नदियों में पानी कम होने, कुएं के अचानक सूखने, भूजल के स्तर में गिरावट और बड़ी संख्या में भयानक केंचुओं की मौजूदगी ने चिंता बढ़ा दी है।

 वायनाड है केंचुआ से पीड़ित जिला
बाढ़ से प्रभावित रहा वायनाड जिला जैव विविधता का धनी माना जाता है। हाल में जिले में बड़ी संख्या में भयानक केंचुओं की मौजूदगी ने किसानों की चिंता बढ़ा दी है। किसान इसे धरती के तेजी से शुष्क हो जाने और मिट्टी के ढांचे में बदलाव का कारक मानते हैं।

 तब उफन रही थी नदियां अब पानी हो रहा कम 
पेरियार, भरतपुझा, पंपा और कबानी सहित अधिकांश नदियां बाढ़ के दौरान उफन रही थीं। अब इसमें पानी का स्तर असामान्य रूप से नीचे जाने लगा है। कई जिलों से कुओं के सूखने के साथ ही उनके बैठ जाने की भी खबरें मिल रही हैं।

 

भूमि संरचना में भी आया है बदलाव 
बाढ़ के कारण कई स्थानों पर भूमि संरचना में भी बदलाव आ गया है। ऊंचाई वाली जगहों पर एक-एक किलोमीटर लंबी दरार पैदा हो गई है। यह स्थिति खास तौर से इडुक्की और वायनाड जिले में उत्पन्न हुई है। इन दोनों जिलों में बड़े पैमाने पर भूस्खलन हुए थे।

 कई जिलों में सूखे जैसी स्थिति 
बाढ़ के बाद दक्षिण भारत के इस राज्य के कई जिलों में सूखे जैसी स्थिति पैदा हो गई है। इलाज कराने अमेरिका गए मुख्यमंत्री विजयन ने फेसबुक पोस्ट में कहा है, 'जल संसाधन प्रबंधन केंद्र को जलस्तर में गिरावट, भूजल में बदलाव और भूमि में दरार का अध्ययन करने का जिम्मा सौंपा गया है।' इसके साथ ही जैव विविधता एवं अन्य मुद्दों की जवाबदेही अलग-अलग संस्थाओं को सौंपी गई है। सड़क एवं पुल का अध्ययन राष्ट्रीय परिवहन योजना एवं अनुसंधान केंद्र करेगा।

 बाढ़ से राज्य को 40,000 करोड़ का नुकसान हुआ 
राज्य के उद्योग मंत्री ईपी जयराजन ने बुधवार को कहा कि प्रारंभिक अनुमान के अनुसार बाढ़ से प्रदेश को 40,000 करोड़ रुपये का नुकसान हुआ है। राज्य गुरुवार को अपना मेमोरेंडम केंद्र को सौंप प्रारंभिक अनुमान के आधार पर मुआवजे की मांग करेगा। उद्योग मंत्री ने कहा कि केरल सरकार गुरुवार को बाढ़ से प्रभावित हर परिवार को 10,000 रुपये का मुआवजा सौंपने का काम पूरा करेगी।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.