कर्नाटक में पिछले 15 दिनों में 150 से अधिक बच्चे KIMS में भर्ती, सभी में निमोनिया के लक्षण

कर्नाटक के हुबली में पिछले 15 दिनों में 150 से अधिक बच्चों को कर्नाटक आयुर्विज्ञान संस्थान (KIMS) में भर्ती कराया गया। इन बच्चों में निमोनिया के लक्षण हैं। किम्स के बाल रोग विभाग के सहायक डा विनोद रट्टागेरी ने जानकारी दी है कि 7 मरीजों की मौत हो चुकी है।

TaniskSun, 26 Sep 2021 11:33 PM (IST)
कर्नाटक में पिछले 15 दिनों में 150 से अधिक बच्चे KIMS में भर्ती। (फोटो- एएनआइ)

बेंगलुरू, एएनआइ। कोरोना महामारी की तीसरी लहर के खतरे के बीच कर्नाटक से चिंताजनक खबर सामने आ रही है। राज्य के हुबली में पिछले 15 दिनों में 150 से अधिक बच्चों को कर्नाटक आयुर्विज्ञान संस्थान (KIMS) में भर्ती कराया गया। जानकारी के अनुसार इन बच्चों में निमोनिया के लक्षण हैं। किम्स के बाल रोग विभाग के सहायक प्रोफेसर डा विनोद रट्टागेरी ने जानकारी दी है कि 7 मरीजों की मौत हो चुकी है। कुछ रोगियों में रेस्पिरेटरी सेंसिटिव वायरस  की पुष्टि हुई है।

इस बीच राज्य के स्वास्थ्य विभाग ने रविवार को जानकारी दी कि कर्नाटक में कोरोना संक्रमण के 775 नए मामले सामने आए हैं और 9 लोगों की मौत हुई है। इसके साथ ही राज्य में कुल मामलों की संख्या 29.73 लाख हो गई है। मरने वालों की संख्या 37 हजार 726 हो गई है। दिन में 860 मरीज डिस्चार्ज भी हुए। इसके साथ ही राज्य में अब तक संक्रमण से ठीक होने वाले मरीजों की कुल संख्या 29 लाख 22 हजार 427 हो गई है।

स्वास्थ्य विभाग के अनुसार रविवार को रिपोर्ट किए गए 775 नए मामलों में से 255 बेंगलुरु अर्बन में सामने आए। वहीं यहा से 205 मरीज डिस्चार्ज हुए और 3 लोगों की मौत हुई। राज्य में कुल सक्रिय मामलों की संख्या 13 हजार 213 है। दिन का पाजिटिविटी रेट 0.54 फीसद और मृत्यु दर (सीएफआर) 1.16 प्रतिशत रही। रविवार को हुई 9 मौतों में से 3 बेंगलुरु अर्बन के अलावा बेलागवी, दक्षिण कन्नड़, हसन, कोडागु, मैसूर और शिवमोग्गा में एक-एक मरीज की मौत हुई। 

स्वास्थ्य विभाग ने जानकारी दी कि पिछले 24 घंटे के दौरान बेंगलुरु अर्बन में 255, दक्षिण कन्नड़ में 99, मैसूरु में 81, कोडागु में 55, चिक्कमगलुरु में 52 मामले सामने आए हैं। बेंगलुरु अर्बन में सबसे ज्यादा कुल 12 लाख 45 हजार 490 पाजिटिव केस सामने आए हैं। इसके बाद मैसूरु में एक लाख 77 हजार 769 और तुमकुरु में एक लाख 20 हजार 098 मामले सामने आए हैं। 

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.