आइओसी, बीपीसीएल ने दिल्ली, हरियाणा व पंजाब के अस्पतालों को शुरू की मुफ्त ऑक्सीजन आपूर्ति

दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के विभिन्न अस्पतालों को मुफ्त में 150 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति।

रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के बाद सरकारी इंडियन आयल कारपोरेशन (आइओसी) और भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने अपनी रिफाइनरियों में उत्पादित ऑक्सीजन कोरोना से प्रभावित दिल्ली हरियाणा और पंजाब के विभिन्न अस्पतालों को मुफ्त में 150 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी है।

Bhupendra SinghMon, 19 Apr 2021 09:00 PM (IST)

नई दिल्ली, प्रेट्र। रिलायंस इंडस्ट्रीज लिमिटेड के बाद सरकारी इंडियन आयल कारपोरेशन (आइओसी) और भारत पेट्रोलियम कारपोरेशन लिमिटेड (बीपीसीएल) ने अपनी रिफाइनरियों में उत्पादित ऑक्सीजन कोरोना से सर्वाधिक प्रभावित राज्यों को उपलब्ध कराना शुरू कर दिया है।

अस्पतालों को मुफ्त में 150 टन आक्सीजन की आपूर्ति शुरू

आइओसी ने एक बयान में कहा कि उसने दिल्ली, हरियाणा और पंजाब के विभिन्न अस्पतालों को मुफ्त में 150 टन ऑक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी है।

ऑक्सीजन की पहली खेप नई दिल्ली भेजी गई

आइओसी ने बयान में कहा, 'जीवन रक्षक मेडिकल ऑक्सीजन की पहली खेप नई दिल्ली में महादुर्गा चैरिटेबल ट्रस्ट हास्पिटल को (सोमवार को) भेज दी गई है।' वहीं, एक अलग बयान में बीपीसीएल ने कहा कि उसने मुफ्त में प्रतिमाह सौ टन आक्सीजन की आपूर्ति शुरू कर दी है।

औद्योगिक आक्सीजन को मेडिकल ऑक्सीजन में तब्दील किया

बता दें कि पिछले हफ्ते रिलायंस की गुजरात में जामनगर स्थित रिफाइनरियों ने औद्योगिक आक्सीजन को मेडिकल ऑक्सीजन में तब्दील किया था। फिलहाल इन रिफाइनरियों से कुल 100 टन ऑक्सीजन की मुफ्त में आपूर्ति की जा रही है।

उद्योगों को आक्सीजन की आपूर्ति पर प्रतिबंध

देश के विभिन्‍न राज्‍यों को मेडिकल ऑक्सीजन की कमी की शिकायतों को लेकर केंद्र सरकार अलर्ट हो गई है। समाचार एजेंसी पीटीआइ की रिपोर्ट के मुताबिक आक्सीजन की आपूर्ति में कमी को पूरा करने के लिए केंद्र सरकार ने उद्योगों को आक्सीजन की आपूर्ति पर सोमवार से अगले आदेश तक प्रतिबंध लगा दिया है ताकि कोरोना संक्रमण से पीड़ि‍त मरीजों की जान बचाई जा सके। यह फैसला 22 अप्रैल से प्रभावी हो जाएगा। हालांकि नौ उद्योगों को इस प्रतिबंध से छूट दी गई है।

कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों के चलते सरकार ने उठाया अहम कदम

केंद्रीय गृह सचिव अजय भल्ला ने सभी राज्यों और केंद्र शासित प्रदेशों को लिखे पत्र में कहा कि कोरोना संक्रमण के तेजी से बढ़ते मामलों और उसकी वजह से मेडिकल आक्सीजन की मांग में बढ़ोतरी के मद्देनजर केंद्र सरकार द्वारा गठित उच्चाधिकार प्राप्त समूह-2 ने औद्योगिक इस्तेमाल के लिए आक्सीजन आपूर्ति की समीक्षा की ताकि उसे देश में मेडिकल आक्सीजन की बढ़ती मांग को पूरा करने के लिए दिया जा सके और लोगों की जिंदगियों को बचाया जा सके।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.