सीरिया में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर भारत चिंतित, UNSC में संप्रभुता और अखंडता को बनाए रखने पर रहा फोकस

भारतीय स्थाई मिशन के काउंसलर प्रतीक माथुर ने कहा कि भारत ने हमेशा सीरिया में हिंसा और वहां पर मानवाधिकारों के उल्लंघन पर अपनी चिंता जताई है। संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की यह बैठक सीरिया की जवाबदेही तय करने के लिए बुलाई गई थी।

Pooja SinghTue, 30 Nov 2021 11:07 AM (IST)
सीरिया में मानवाधिकारों के उल्लंघन पर भारत चिंतित

नई दिल्ली, एएनआइ। सीरिया में हो रहे मानवाधिकारों के उल्लंघन और हिंसा पर भारत ने फिर से चिंता जताई है। संयुक्त राष्ट्र महासभा की बैठक के दौरान भारतीय स्थाई मिशन के काउंसलर प्रतीक माथुर ने कहा कि भारत ने हमेशा सीरिया में हिंसा और वहां पर मानवाधिकारों के उल्लंघन पर अपनी चिंता जताई है। 

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की यह बैठक सीरिया की जवाबदेही तय करने के लिए बुलाई गई थी। इसमें सीरिया में दी जा रहीं सजाओं और वहां पर हो रहे अपराधों पर चिंता जताई गई थी और अंतरराष्ट्रीय समुदाय के लिए इसे चिंता का विषय बताया गया है। इस बैठक में सुरक्षा परिषद के सदस्य के रूप में एस्टोनिया, फ्रांस, ब्रिटेन, संयुक्त राज्य अमेरिका, बेल्जियम, कनाडा, जर्मनी, जॉर्जिया, नीदरलैंड व अन्य देशों के प्रतिनिधि शामिल रहे। 

भारत तरफ से बैठक में शामिल हुए प्रतीक माथुर ने कहा कि सीरिया में सशस्त्र समूहों द्वारा सत्ता परिवर्तन और बाहरी समर्थन से वहां आतंकवाद की स्थिति पैदा हुई है। उन्होंने कहा कि हमें पूरा भरोसा है कि सीरिया की सुरक्षा और स्थिरता केवल वहां की संप्रभुता और अखंडता को बनाए रखने से ही हासिल हो सकेगी। बैठक की अध्यक्षता कर रहे एस्टोनिया के स्थाई प्रतिनिधि स्वेन जुर्गेन्स ने कहा कि सीरिया में सशस्त्र संघर्ष दो दशक तक पहुंच चुका है। वहां पर हो रहे प्रदर्शनों और लोकतांत्रिक सुधार की मांगों को बल पूर्वक दबाया जा रहा है। इतना ही नहीं

सीरियाई लोगों पर अत्याचार किया जा रहा है और वहां पर अंतरराष्ट्रीय कानूनों का उल्लंघन हो रहा है। उन्होंने कहा कि सीरिया में अत्याचारों को रोकने और दोषियों के खिलाफ कार्रवाई करने की आवश्कता है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.