Independence Day 2020: नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने फोन कर पीएम मोदी को स्वतंत्रता दिवस पर दी बधाई

Independence Day 2020: नेपाल के प्रधानमंत्री ओली ने फोन कर पीएम मोदी को स्वतंत्रता दिवस पर दी बधाई
Publish Date:Sat, 15 Aug 2020 03:00 PM (IST) Author: Tanisk

नई दिल्ली, एएनआइ। भारत के साथ जारी तनाव के बीच नेपाल के पीएम केपी शर्मा ओली ने पीएम नरेंद्र मोदी को फोन करके स्वतंत्रता दिवस पर बधाई दी। दोनों नेताओं ने कोरोना वायरस (COVID-19) स्थिति पर चर्चा की। समाचार एजेंसी एएनआइ ने सूत्रों के हवाले से इसकी जानकारी दी है। इससे पहले आज, ओली ने ट्वीट कर कहा कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी,भारत सरकार और भारत के लोगों को 74 वें स्वतंत्रता दिवस की हार्दिक बधाई और शुभकामनाएं। भारत के लोगों की अधिक प्रगति और समृद्धि के लिए शुभकामनाएं। बता दें कि नेपाल सरकार द्वारा भारतीय क्षेत्र के कुछ हिस्सों को शामिल करके एक नया नक्शा जारी करने के बाद दोनों देशों के बीच संबंधों में तनाव पैदा हो गया है। इसके बाद से दोनों नेताओं ने पहली बार बातचीत की है, ऐसे  में इसे काफी महत्वपूर्ण बताया जा रहा है। 

समाचार एजेंसी एएनआइ के अनुसार द्विपक्षीय पहल के तहत नेपाल को भारत विकास परियोजनाओं में सहायता कर रहा है। इस पहल से विशेष रूप से शिक्षा, स्वास्थ्य, कनेक्टिविटी, पेयजल और स्वच्छता, व्यावसायिक प्रशिक्षण और चिकित्सा परिसर के क्षेत्र को फायदा होता है।  भारतीय दूतावास के अनुसार 2003 से काठमांडू में भारत ने 798.7 करोड़ (नेपाली रुपया) से अधिक के वित्तीय अनुदान के साथ नेपाल के 77 जिलों को कवर करते हुए 422 हाई इंपैक्ट कम्युनिटी डेवलेपमेंट प्रोजेक्ट (HICDP)को पूरा किया है।

दक्षिण एशियाई नेताओं पर शांति बनाए रखने की बड़ी जिम्मेदारी- पीएम मोदी

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने शनिवार को स्वतंत्रता दिवस पर कहा कि भारत ने अपने सभी पड़ोसियों के साथ द्विपक्षीय संबंधों को बढ़ावा दिया है। ऐसे में दक्षिण एशियाई देशों के नेताओं की इस क्षेत्र में शांति बनाए रखने की बड़ी जिम्मेदारी है। पीएम ने लाल किले की प्राचीर से अपने स्वतंत्रता दिवस के भाषण में कहा कि दक्षिण एशिया दुनिया की आबादी का एक-चौथाई हिस्सा है। हम महान अवसर पैदा कर सकते हैं। इन देशों के नेताओं पर शांति बनाए रखने की बड़ी जिम्मेदारी है। नरेंद्र मोदी सरकार ने अपनी नेबरहुड फर्स्ट पालिसी के तहत भारत के तत्काल पड़ोस पर ध्यान केंद्रित किया है।

भारत-नेपाल में तनाव

बता दें कि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने आठ मई को लिपुलेह दर्रे को 80 किलोमिटर लंबी उत्तराखंड के धाराचुला से जोड़ने वाली रणनीतिक सड़क का उद्घाटन किया। इसके दोनों देशों में तनाव उपज गया। नेपाल सरकार ने मई में कालापानी, लिपुलेख और लिम्पियाधुरा के भारतीय क्षेत्रों को शामिल करते हुए देश का नया नक्शा जारी किया था। भारत ने इसपर आपत्ति जताते हुए कहा था कि नेपाल द्वारा जारी नया नक्शा 'ऐतिहासिक तथ्यों और साक्ष्यों पर आधारित नहीं है'। साथ नेपाल को भारत की संप्रभुता का सम्मान करने की हिदायत दी थी। 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.