न्यास कहेगा तो विहिप 10 करोड़ परिवारों से राम मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाएगी

न्यास कहेगा तो विहिप 10 करोड़ परिवारों से राम मंदिर निर्माण के लिए धन जुटाएगी
Publish Date:Sun, 20 Sep 2020 08:13 AM (IST) Author: Arun Kumar Singh

भोपाल, राज्‍य ब्‍यूरो। दो दिवसीय बैठक खत्म होने के बाद विश्व हिंदू परिषद (विहिप) के केंद्रीय मंत्री मिलिंद परांडे ने कहा कि राम जन्मभूमि न्यास कहेगा तो विहिप 10 करोड़ परिवारों तक पहुंचकर धन संग्रह करेगी। परांडे ने कहा कि अयोध्या में अगले तीन साल में राम मंदिर का निर्माण हो जाएगा और रामलला उस भव्य मंदिर में विराजमान हो जाएंगे। भोपाल में मीडिया के साथ बातचीत में विहिप नेता परांडे ने कहा कि चीनी वस्तुओं के बहिष्कार के लिए संगठन देशभर में अभियान चलाएगा। इसके साथ ही आत्मनिर्भर भारत अभियान के तहत बेहतर गुणवत्ता की वस्तुओं के स्वदेशी उत्पादन के लिए मदद भी की जाएगी। 

उन्होंने कहा कि कृषि, स्वरोजगार और शिक्षा के क्षेत्र में प्रशिक्षण से लेकर कर्ज दिलाने में भी विहिप कार्यकर्ता मदद करेंगे। विहिप नेता ने कहा कि हर राजनीतिक दल को हिंदू हित की बात करना चाहिए। 

जकात पर प्रतिबंध लगाएं 

परांडे ने कहा, जकात फाउंडेशन की गतिविधियां हिंसा के समर्थन में दिखती हैं, इसलिए ऐसे संगठन की जांच कर प्रतिबंध लगाया जाए। धर्मातरण के लिए जिन संगठनों को विदेश से मदद मिल रही है, उनकी भी जांच कराई जाना चाहिए। वे बोले कि धर्मातरण की वजह विदेश से मिलने वाला धन है, इसलिए विदेशी चंदा कानून के तहत मिलने वाले धन पर रोक लगनी चाहिए। एक सवाल के जवाब में परांडे ने कहा कि कुछ शक्तियां आदिवासी समाज को बहका रही हैं, लेकिन वे सफल नहीं होंगे। ये हिंदुओं को तोड़ने का प्रयास चल रहा है। 

मध्य प्रदेश में भी बढ़ रहे लव जिहाद के मामले

विहिप नेता ने कहा कि मध्य प्रदेश में भी लव जिहाद के मामले बढ़ते जा रहे हैं। मंदसौर, सतना और खंडवा जिलों में ऐसे मामले सामने आ चुके हैं। विहिप लव जिहाद का शिकार हुई देश भर की हजारों लड़कियों को न सिर्फ वापस लाने का काम कर रही है बल्कि उनकी शादी कराने का भी काम कर रही है। जिनका विवाह नहीं हो पा रहा है उन्हें आत्मनिर्भर बनाने का काम कर रहे हैं। परांडे ने कहा कि विहिप लव जेहाद को लेकर देश में लोगों की जागरूकता के लिए अभियान चला रही है। जिन प्रदेशों में ऐसे मामले ज्यादा हो रहे हैं, वहां बजरंग दल और विहिप बड़े आंदोलन करेंगे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.