Corona Politics: मनमोहन सिंह के पत्र पर हर्षवर्धन का जवाब, महामारी के लिए कांग्रेस शासित राज्‍य जिम्‍मेदार, वैक्‍सीन पर किया संदेह

महामारी के लिए कांग्रेस शासित राज्‍य जिम्‍मेदार, वैक्‍सीन पर किया संदेह । फाइल फोटो।

कोरोना प्रबंधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सुझाव देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को बिंदुवार जवाब दिया। उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के लिए कांग्रेस शासित राज्य जिम्मेदार हैं।

Ramesh MishraMon, 19 Apr 2021 07:24 PM (IST)

नई दिल्ली, एजेंसी। कोरोना प्रबंधन पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखकर सुझाव देने वाले पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह को केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री हर्षवर्धन ने सोमवार को बिंदुवार जवाब दिया। स्वास्थ्य मंत्री ने कहा कि ऐसे कठिन समय में अगर आपकी सकारात्मक सहयोग की पेशकश और मूल्यवान सलाह को कांग्रेस के नेता ही मान लें तो इतिहास आपका आभारी रहेगा।

टीकाकरण के बजाय टीकों पर ही संदेह जताने में व्यस्त थे कांग्रेसी

उन्होंने कहा कि वैश्विक महामारी की दूसरी लहर के लिए कांग्रेस शासित राज्य जिम्मेदार हैं, जो लोगों के टीकाकरण के बजाय टीकों पर ही संदेह जताने में व्यस्त थे। पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह ने देश में कोरोना के कारण उत्पन्न हालात से निपटने के लिए रविवार को पांच उपाय सुझाते हुए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को पत्र लिखा था। साथ ही उन्होंने इस बात पर जोर दिया था कि महामारी से मुकाबले के लिए टीकाकरण और दवाओं की आपूíत बढ़ाना महत्वपूर्ण होगा। इस पर प्रतिक्रिया देते हुए हर्षवर्धन ने पूर्व प्रधानमंत्री को लिखे पत्र में कहा कि कुछ कांग्रेस नेताओं के गैरजिम्मेदाराना सार्वजनिक बयानों के कारण कांग्रेस शासित कुछ राज्यों में वरिष्ठ नागरिकों और यहां तक कि अग्रिम मोर्चे पर तैनात कíमयों के टीकाकरण का स्तर राष्ट्रीय टीकाकरण औसत से कम रहा है।

टीके के प्रभाव को लेकर झूठी बातें फैलाने में दिखाई दिलचस्पी

पूर्व प्रधानमंत्री ने अपने पत्र में यह भी कहा था कि केवल कुल संख्या को नहीं देखना चाहिए, बल्कि यह देखा जाना चाहिए कि कितने प्रतिशत आबादी को टीका लग चुका है। इस पर हर्षवर्धन ने कहा कि आप यह मानते हैं कि टीका कोरोना महामारी से लड़ाई में बहुत अहम है, लेकिन यह दुख की बात है कि आपकी पार्टी में जिम्मेदार पदों पर बैठे लोग ही आपकी राय से सहमत नहीं दिखाई देते।' स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री ने इस बात पर खेद प्रकट किया कि ऐसी कठिन परिस्थितियों में टीका बनाकर दुनिया को सशक्त बनाने वाले विज्ञानियों और निर्माताओं के सम्मान में कांग्रेस के वरिष्ठ नेताओं ने एक भी शब्द नहीं कहा। उन्होंने कहा कि विज्ञानियों का शुक्रिया अदा करने की बात तो छोड़ दें, कई कांग्रेस नेताओं और राज्य की कांग्रेस सरकारों ने टीके के प्रभाव को लेकर झूठी बातें फैलाने में बड़ी दिलचस्पी दिखाई।

कांग्रेस के एक मौजूदा सीएम ने भ्रम फैलाने के मामले में बनाया व‌र्ल्ड रिकार्ड

इस तरह से टीके को लेकर लोगों के मन में हिचक पैदा की गई और इससे लोगों की जिंदगियों के साथ खेला जा रहा है। डा. हर्षवर्धन लिखा कि आपके एक मौजूदा मुख्यमंत्री ने तो भ्रम फैलाने के मामले में एक तरह से व‌र्ल्ड रिकार्ड ही बना डाला है और वह किसी सरकार के अकेले ऐसे मुखिया हैं जो सीधे तौर पर देश में बने टीके के खिलाफ लोगों को भड़का रहे हैं। उन्होंने कहा, 'कांग्रेस के कुछ नेताओं ने तो सार्वजनिक तौर पर टीके की निंदा की और अकेले में यही टीका लिया। अगर उन्होंने (कांग्रेस के नेताओं) अकेले में भी ऐसा किया है तब भी आपकी ओर से सुझाव के शब्द बेहतर सहयोग सुनिश्चित कर सकते थे।'

आपकी पार्टी की नकारात्मकता के बावजूद हम सुझावों पर अमल करेंगे

स्वास्थ्य मंत्री ने कहा, 'सकारात्मक सहयोग को लेकर आपके झुकाव को देखते हुए मैं मान लेता हूं कि आपने उन्हें (कांग्रेस नेताओं को) सुझाव दिया होगा, फिर भी स्पष्ट है कि आपका सुझाव व्यर्थ गया।' उन्होंने कहा कि आपकी पार्टी के कनिष्ठ सहयोगियों को भी आपके सुझाव का पालन करना चाहिए। डा. हर्षवर्धन ने कहा, 'पूरे सम्मान के साथ मैं कहना चाहता हूं कि आपकी पार्टी द्वारा फैलाई जा रही नकारात्मकता के बावजूद हम सुझावों पर पूरा ध्यान देते हैं और यह मानते हैं कि यह राष्ट्रीय हितों को ध्यान में रखते हुए दिए गए होंगे। हालांकि, जिन लोगों ने आपका पत्र तैयार किया या आपको सलाह दी, उन लोगों ने आपको गुमराह करके आपकी साख को नुकसान पहुंचाया है।' उन्होंने कहा, 'आपने कोरोना महामारी से लड़ाई में टीकाकरण अभियान पर जोर दिया जिसे हम मानते हैं। इसीलिए हमने दुनिया का सबसे बड़ा टीकाकरण अभियान शुरू किया।'

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.