भारतीय किसान यूनियन के गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा, सिर्फ कृषि कानून नहीं पूरी व्यवस्था बदलनी होगी

मप्र के रतलाम में किसान महापंचायत में हरियाणा के किसान नेता

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव आदि ने डेलनपुर पहुंचकर झोली में किसानों के घर से एक मुट्ठी अनाज और पांच रुपये लेने की शुरआत की। इसके बाद वे महापंचायत में पहुंचे।

Neel RajputThu, 04 Mar 2021 09:52 PM (IST)

रतलाम, जेएनएन। भारतीय किसान यूनियन की हरिणाया शाखा के प्रदेशाध्यक्ष गुरनाम सिंह चढूनी ने कहा है कि किसान कर्ज से परेशान होकर फांसी लगा रहा है। बड़े पूंजीपति बैंकों के करोड़ों रुपये लेकर भाग गए, उन्हें जेल तक नहीं हुई। केवल कृषि कानून नहीं, पूरी व्यवस्था को बदलने की जरूरत है। वे गुरुवार को मध्य प्रदेश के रतलाम जिले के ग्राम डेलनपुर में आयोजित किसान महापंचायत को संबोधित कर रहे थे।

उन्होंने कहा कि यह लड़ाई जनता व कार्पोरेट के बीच की है। मात्र कुछ तय की गई फसलों पर एमएसपी दी जा रही है। पूरे देश का भोजन (अनाज व सब्जी) मात्र कुछ लोगों के गोदामों में होगा। तब भाव मनमर्जी के होंगे। महापंचायत को कई किसान नेताओं ने भी संबोधित किया।

दिग्विजय सिंह भी शामिल हुए

मध्य प्रदेश के पूर्व मुख्यमंत्री दिग्विजय सिंह, प्रदेश कांग्रेस के पूर्व अध्यक्ष अरुण यादव आदि ने डेलनपुर पहुंचकर झोली में किसानों के घर से एक मुट्ठी अनाज और पांच रुपये लेने की शुरआत की। इसके बाद वे महापंचायत में पहुंचे।

जिला कांग्रेस अध्यक्ष राजेश भरावा ने बताया कि गांव-गांव जाकर हर घर से एक मुट्ठी अनाज व पांच रुपये एकत्र करेंगे। एकत्र अनाज दिल्ली में आंदोलन कर रहे किसानों को दिया जाएगा और रुपये राम मंदिर ट्रस्ट में जमा कराएंगे। दिग्विजय सिंह ने महापंचायत को संबोधित नहीं किया और किसानों के साथ नीचे बैठे। उनके साथ अरुण यादव, विधायक कांतिलाल भूरिया, मनोज चावला, हर्षविजय गेहलोत, युवा कांग्रेस के प्रदेशाध्यक्ष विक्रांत भूरिया भी नीचे ही बैठे।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.