सामूहिक दुष्कर्म मामले में गोवा के सीएम सावंत के बयान पर बवाल, जानें- क्या कहा

सावंत के इस बयान को लेकर विपक्षी दल सरकार पर हमलावर हैं। गोवा कांग्रेस के प्रवक्ता अल्टोन डीकोस्टा ने गुरुवार को कहा कि गोवा में कानून-व्यवस्था खराब हो रही है। उन्होंने कहा हमें रात में घूमने में डर क्यों लगना चाहिए? अपराधियों को जेल में होना चाहिए।

Sanjeev TiwariThu, 29 Jul 2021 07:27 PM (IST)
विधानसभा में गोवा के सीएम सावंत (फाइल फोटो)

पणजी, प्रेट्र। गोवा में एक बीच पर दो नाबालिगों से सामूहिक दुष्कर्म मामले में विपक्ष के दबाव का सामना कर रही राज्य की भाजपा सरकार विवाद में घिर गई है। यह विवाद दुष्कर्म पीडि़ताओं को लेकर विधानसभा में मुख्यमंत्री प्रमोद सावंत की टिप्पणी से जुड़ा है। सावंत ने कहा है कि माता-पिता को आत्ममंथन करना चाहिए कि उनके बच्चे देर रात बीच पर क्यों थे।

सदन में ध्यानाकर्षण प्रस्ताव पर चर्चा के दौरान बुधवार को सावंत ने कहा, 'जब 14 साल के किशोर-किशोरियां पूरी रात बीच पर गुजारते हैं तो माता-पिता को आत्ममंथन करना चाहिए। सिर्फ इसलिए कि बच्चे बात नहीं सुनते हम अपनी जिम्मेदारी सरकार और पुलिस पर नहीं थोप सकते।' गृह मंत्रालय का भी दायित्व संभाल रहे सावंत ने कहा कि माता-पिता की जिम्मेदारी है कि वे अपने बच्चों की सुरक्षा सुनिश्चित करें। उन्होंने इशारा किया कि अभिभावकों को बच्चों, खासकर नाबालिगों को रात में बाहर नहीं जाने देना चाहिए।

बीच पर दुष्कर्म का आरोपित सरकारी कर्मी निलंबित

सावंत ने कहा, 'हम सीधे तौर पर पुलिस पर आरोप लगाते हैं, लेकिन मैं यह बताना चाहता हूं कि 10 युवक बीच पर पार्टी करने गए थे, जिनमें से छह घर लौट गए और चार पूरी रात वहां रहे।' उन्होंने गुरुवार को शून्यकाल के दौरान सदन को बताया कि आरोपित सरकारी कर्मचारी को निलंबित कर दिया गया है। उसे बर्खास्त करने की कार्रवाई की जा रही है। मामले के चारों आरोपित गिरफ्तार किए जा चुके हैं।

विपक्षी दलों ने राज्य की भाजपा सरकार को घेरा

सावंत के इस बयान को लेकर विपक्षी दल सरकार पर हमलावर हैं। गोवा कांग्रेस के प्रवक्ता अल्टोन डीकोस्टा ने गुरुवार को कहा कि गोवा में कानून-व्यवस्था खराब हो रही है। उन्होंने कहा, 'हमें रात में घूमने में डर क्यों लगना चाहिए? अपराधियों को जेल में होना चाहिए और आम लोगों को बाहर घूमना चाहिए।' गोवा फारवर्ड पार्टी के विधायक विजय सरदेसाई ने कहा, 'लोगों की सुरक्षा पुलिस व सरकार की जिम्मेदारी है। अगर ऐसा नहीं होता है तो मुख्यमंत्री को पद पर बने रहने का कोई अधिकार नहीं है।' निर्दलीय विधायक रोहन खोंटे ने ट्वीट किया, 'अगर राज्य सरकार हमें सुरक्षा नहीं देगी तो कौन देगा? गोवा ऐतिहासिक रूप से महिलाओं के लिए सुरक्षित प्रदेश रहा है।' सदन में बुधवार को विपक्षी सदस्यों ने सरकार पर पुलिस को बचाने और जांच को प्रभावित करने का आरोप लगाया था।

उल्लेखनीय है कि गोवा में बेनालिम बीच पर रविवार की रात चार लोगों ने खुद को पुलिस बताते हुए दो नाबालिगों से दुष्कर्म किया था और उनके साथ के लड़कों की पिटाई की थी। इनमें से एक कृषि विभाग का वाहन चालक है।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.