भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को सता रहा फिर से किडनैपिंग का डर, बोला उसके खिलाफ हो रही साजिश

भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी ने कहा कि उसकी तबीयत बिगड़ गई है। उसने आरोप लगाया है कि उसे फिर किडनैपिंग करने की साजिश हो रही है। उसे एंटीगुआ से गयाना ले जाने की कोशिश की जा रही है।

Pooja SinghMon, 29 Nov 2021 09:32 AM (IST)
भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी को सता रहा फिर से 'किडनैपिंग' का डर, बोला उसके खिलाफ हो रही साजिश

नई दिल्ली, एएनआइ। भगोड़े कारोबारी मेहुल चोकसी ने कहा कि उसकी तबीयत बिगड़ गई है। उसने आरोप लगाया है कि उसे फिर किडनैपिंग करने की साजिश हो रही है। उसे एंटीगुआ से गयाना ले जाने की कोशिश की जा रही है। बता दें कि 13,500 करोड़ रुपये के पंजाब नेशनल बैंक (PNB) धोखाधड़ी मामले में आरोपी भगोड़ा मेहुल चोकसी इस वक्त एंटीगुआ में मौजूद है। भारत की जांच एजेंसियां मेहुल चोकसी को वापस देश लाने की कोशिश लगातार कर रही हैं। ताकी उसके खिलाफ मुकदमे की कार्रवाई को आगे बढ़ाया जा सके।

गौरतलब है कि इसी साल जुलाई में मेहुल चोकसी अपनी खराब तबीयत का हवाला देकर बच गया था। डोमिनिका के कोर्ट ने उसे जमानत देकर डोमिनिका से एंटीगुआ वापस जाने की इजाजत दे दी थी। दरअसल, भारत की एजेंसियों ने मेहुल चोकसी को भारत वापस लाने के लिए कोर्ट में याचिका दायर की थी।

मेहुल चोकसी के वकील विजय अग्रवाल ने बताया था कि चोकसी को मेडिकल आधार पर जमानत मिल गई थी।  कोर्ट ने मेहुल चोकसी को जमानत के तौर पर 10 हजार कैरिबियाई डॉलर यानी करीब 2 लाख 75 हजार रुपये जमा करने का आदेश दिए थे। 

बैरिस्टर माइकल पोलक ने बताया था कि मेहुल चोकसी कुछ हफ्तों से बहुत कठिन दौर से गुजर रहा था। कोर्ट की तरफ से कहा गया गया कि मेडिकल आधार पर राहत मिलना जरूरी था, जिससे वो अपना इलाज करा सकते हैं और अपने परिवार की मदद कर सकते हैं। 

इससे पहले मेहुल चोकसी के परिवार और वकीलों ने आरोप लगाया था कि चोकसी को एंटीगुआ के जॉली हार्बर इलाके से भारतीय एजेंसियों के एजेंटों ने किडनैप कर लिया था और फिर 23 मई को उसे जबरन डोमिनिका ले जाया गया था.

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.