मध्यप्रदेश के पूर्व विधायक व भाजपा नेता कोटवाणी और उनके भाई सहित चार की कोरोना से मौत

शिवा कोटवाणी 1993 से 1998 तक उज्जैन दक्षिण क्षेत्र से विधायक रहे थे।

मध्यप्रदेश के पूर्व विधायक और भाजपा के वरिष्ठ नेता 68 वर्षीय शिवा कोटवाणी और उनके भाई मनोहर कोटवाणी का निधन हो गया। दोनों कोरोना संक्रमित थे। विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति के बाडीगार्ड और चारधाम से जुड़े संत अमृतानंद का भी कोरोना के चलते निधन हो गया।

Bhupendra SinghFri, 16 Apr 2021 11:51 PM (IST)

उज्जैन, राज्य ब्यूरो। मध्यप्रदेश के पूर्व विधायक और भाजपा के वरिष्ठ नेता 68 वर्षीय शिवा कोटवाणी का शुक्रवार शाम निधन हो गया। गुरुवार देर रात उनके भाई मनोहर कोटवाणी का निधन हुआ था। दोनों कोरोना संक्रमित थे और फ्रीगंज में एक ही बिल्डिंग में रहते थे।। पार्टी और सिंधी समाज में शिवा कोटवाणी की गहरी पैठ मानी जाती थी। वे 1993 से 1998 तक उज्जैन दक्षिण क्षेत्र से विधायक रहे थे। पार्टी में भी महत्वपूर्ण पदों पर जिम्मेदारियां निभाई।

कुलपति के बाडीगार्ड और संत अमृतानंद का भी निधन 

विक्रम विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो. अखिलेशकुमार पांडेय के बाडीगार्ड जितेंद्र श्रीवास और चारधाम से जुड़े संत अमृतानंद का भी कोरोना के चलते निधन हो गया। जितेंद्र श्रीवास अस्थायी कर्मचारी थे। उनका इलाज अमलतास अस्पताल में चल रहा था।

आक्सीजन सपोर्ट हटाने से हुई कोरोना संक्रमित शिक्षक की मौत

मध्य प्रदेश के ग्वालियर अंचल स्थित शिवपुरी के जिला अस्पताल में बुधवार को आक्सीजन सपोर्ट हटाने से हुई कोरोना संक्रमित शिक्षक सुरेंद्र शर्मा की मौत के मामले में राज्य मानव अधिकार आयोग ने संज्ञान लिया है। आयोग के अध्यक्ष न्यायमूर्ति नरेंद्र कुमार जैन ने शिवपुरी कलेक्टर और सीएमएचओ से तीन हफ्ते में प्रतिवेदन मांगा है।

जांच कमेटी ने किसी को दोषी नहीं माना 

हालांकि घटना की जांच के लिए मेडिकल कॉलेज अधीक्षक द्वारा बनाई गई तीन सदस्यीय जांच कमेटी ने किसी को दोषी नहीं माना है। जांच रिपोर्ट के अनुसार मरीज आक्सीजन सपोर्ट पर नहीं था। उसकी मशीन नहीं हटाई गई। हालांकि वार्ड के सीसीटीवी फुटेज में वार्ड बॉय आक्सीजन सपोर्ट हटाता हुआ स्पष्ट दिखाई दे रहा है।

पिता तड़प रहे थे, लेकिन उन्हें देखने कोई चिकित्सक नहीं आया: बेटे का आरोप

बता दें कि बुधवार को कोविड वार्ड में भर्ती शिक्षक सुरेंद्र शर्मा की मौत हो गई थी। एक दिन पहले ही रात 11 बजे बेटा दीपक शर्मा उनसे मिलकर गया था। सीसीटीवी फुटेज में वे बेटे से बात करते दिखाई दे रहे थे। बेटे दीपक का आरोप है कि वार्ड बॉय ने देर रात पिता के पलंग पर लगा पोर्टेबल ऑक्सीजन कंसट्रेटर निकाल दिया, इससे सुबह उनकी हालत बिगड़ गई। दीपक ने आरोप लगाया था कि सुबह जब अस्पताल पहुंचा तो पिता तड़प रहे थे, लेकिन उन्हें देखने कोई चिकित्सक नहीं आया। स्ट्रैचर नहीं मिलने पर वह स्वयं पिता को पीठ पर लादकर आइसीयू तक ले गया, लेकिन इसी दौरान उनकी मौत हो गई।

पांच राज्यों के विधानसभा चुनावों से जुड़ी प्रमुख जानकारियों और आंकड़ों के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.