पिता ने बेटी को जमीन दी, तो पंचों ने बंद कर दिया हुक्का-पानी;लगाया लाखों का आर्थिक दंड

संवाद सूत्र, जोधपुर। पिता की ओर से बेटी को जायदाद में जमीन का हिस्सा देना राजस्थान के सरगरा समाज के पंचों को रास नहीं आया। पंचों के इस परिवार को यह फैसला इस कदर नागवार गुजरा कि उन्होंने महिला के पति और भाई का हुक्का पानी बंद कर दिया। इतना ही नहीं, उन पर लाखों रुपये का आर्थिक दंड भी लगा दिया। मामला जोधपुर जिले के खेजड़ला से जुड़ा है, जहां अब पीड़ित ने अदालत का दरवाजा खटखटाया है।

जोधपुर की बिलाड़ा तहसील के जिला मजिस्ट्रेट ने खाप पंचायत के प्रकरण में सरगरा समाज के 15 मुख्य पंचों के खिलाफ मुकदमा दर्ज कर जांच करने के आदेश दिए हैं। मामले में नामजद दो पंच राजकीय सेवा के कर्मचारी भी हैं। परिवादी प्रहलाद राम ने अदालत में दायर इस्तगासे (मुकदमा) में बताया कि इसी माह छह जनवरी को गांव खेजड़ला में सरगरा समाज की पंचायत बुलाकर पंच रामुराम सरगरा सहित अन्य पंचों ने मामले में समाज से बाहर करने का एलान कर पूरे परिवार का हुक्का- पानी बंद कर दिया। पुन: समाज में सम्मिलित होने के नाम पर भारी आर्थिक दंड लगाया है।

उन्होंने बताया कि पंच रामुराम स्वयं जलदाय विभाग के सरकारी कर्मचारी है और खाप पंचायत के पंच भी हैं। पीड़ित के अनुसार पहले भी समाज के कई लोगों को हुक्का-पानी बंद करने के नाम पर धमकाया गया और उससे आर्थिक दंड स्वरूप लाखों रुपये वसूले गए। पीड़ित ने पंचों पर अपने साले से भी ढाई लाख रुपये लेने का आरोप लगाया। अदालत के आदेश के बाद पुलिस ने मामला दर्ज कर लिया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.