सक्रिय है चार सिस्टम: बंगाल की खाड़ी में डिप्रेशन, देश के इन इलाकों में जारी रहेगा बारिश का सिलसिला- IMD का पूर्वानुमान

बंगाल की खाड़ी में उत्तर पूर्व और पूर्व मध्य हिस्से में डिप्रेशन बना हुआ है। यह शनिवार को और गहरा हो सकता है। इसके मजबूत होने से ओडिशा और आंध्र प्रदेश में अगले तीन दिन में भारी बारिश होने की संभावना है

Monika MinalSat, 25 Sep 2021 06:14 AM (IST)
बंगाल की खाड़ी में डिप्रेशन, देश के इन इलाकों में जारी रहेगा बारिश का सिलसिला- IMD का पूर्वानुमान

नई दिल्ली, एजेंसी। भारतीय मौसम विभाग ने शनिवार सुबह जारी किए गए पूर्वानुमान में बताया कि  बंगाल की खाड़ी में उत्तर पूर्व और पूर्व मध्य हिस्से में डिप्रेशन बना हुआ है। यह शनिवार को और गहरा हो सकता है। इसके मजबूत होने से ओडिशा और आंध्र प्रदेश में अगले तीन दिन में भारी बारिश होने की संभावना है इसके कारण विभाग ने उत्तरी आंध्र प्रदेश और इससे सटे दक्षिणी ओडिशा के तट पर साइक्लोन की संभावना जताई है। वहीं पूर्वी मध्य प्रदेश और आसपास हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में एक गहरा कम दबाव का क्षेत्र बन गया है।

मानसून ट्रफ भी नौगांव से होकर बंगाल की खाड़ी की ओर जा रहा है। साथ ही सौराष्ट्र पर भी हवा के ऊपरी भाग में एक चक्रवात बना हुआ है। इन चार वेदर सिस्टम के प्रभाव से मध्य प्रदेश में बारिश की संभावना है। मौसम विज्ञानियों के मुताबिक शनिवार को भोपाल, इंदौर, उज्जैन, होशंगाबाद संभाग के जिलों में गरज--चमक के साथ बारिश होने की संभावना है।

बंगाल की खाड़ी में गहरा कम दबाव का क्षेत्र 

मौसम विज्ञान केंद्र के पूर्व वरिष्ठ मौसम विज्ञानी अजय शुक्ला ने बताया कि वर्तमान में बंगाल की खाड़ी में गहरा कम दबाव का क्षेत्र बन गया है। इस सिस्टम के शनिवार को अवदाब के क्षेत्र में तब्दील होने की संभावना है। वर्तमान में मानसून ट्रफ भी जैसलमेर, अजमेर, नौगांव, डाल्टनगंज, जमशेदपुर, दीघा से होते हुए बंगाल की खाड़ी तक बना हुआ है। बंगाल की खाड़ी में बना सिस्टम 26 सितंबर को ओडिशा के तट पर पहुंचेगा। इसके प्रभाव से मप्र में शुरू हुआ बारिश का सिलसिला तीन-चार दिन तक जारी रहेगा।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.