Cyclone Jawad Updates: ओडिशा भी चक्रवात जवाद से निपटने के लिए तैयार, आज आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा तूफान

Cyclone Jawad Updates चक्रवात जवाद वर्तमान में विशाखापत्तनम के दक्षिण-पूर्व में लगभग 210 किमी और पुरी से 390 किमी दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। ओडिशा के अधिकारी के मुताबिक चक्रवात कमजोर पड़ने के संकेत दे रहा है। चक्रवात कल शाम तक ओडिशा से दूर चला जाएगा।

Pooja SinghSat, 04 Dec 2021 08:11 AM (IST)
ओडिशा भी चक्रवात 'जवाद' से निपटने के लिए तैयार, आज आंध्र प्रदेश के तट से टकराएगा तूफान

नई दिल्ली, जेएनएन।  चक्रवात 'जवाद' वर्तमान में विशाखापत्तनम के दक्षिण-पूर्व में लगभग 210 किमी और पुरी से 390 किमी दक्षिण-पश्चिम में स्थित है। ओडिशा के अधिकारी के मुताबिक, चक्रवात कमजोर पड़ने के संकेत दे रहा है। चक्रवात कल शाम तक ओडिशा से दूर चला जाएगा।

चक्रवात 'जवाद' को ध्यान में रखते हुए ओडिशा भी अलर्ट है। यहां पर संवेदनशील इलाकों से लोगों को निकालने का काम जारी है। पुरी जिलाधिकारी समर्थ वर्मा ने बताया कि चक्रवात के बाद बिजली और पेयजल आपूर्ति जैसी सेवाओं की बहाली के लिए टीमें तैयार हैं। चक्रवात आश्रयों में रहने वालों को गर्म भोजन उपलब्ध कराया जा रहा है।

आंध्र प्रदेश के तट से आज चक्रवात तूफान 'जवाद' टकराएगा। राज्य में लगातार बारिश दर्ज हो रही है। कुछ स्थानों पर 50 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से हवाएं चलीं है। इतना ही नहीं प्रदेश की सरकार ने अलर्ट भी जारी कर दिया है। स्कूल-कालेज को भी बंद कर दिए गए हैं। प्रशासन लगातार अलर्ट मोड में है। इस तूफान से निपटने के लिए राज्य सरकारों ने पूरी तैयारी कर ली है।

चक्रवात तूफान 'जवाद' को लेकर प्रशासन पहले ही अलर्ट मोड पर है। बंगाल की खाड़ी से उठे इस चक्रवात का असर सबसे ज्यादा आंध्र प्रदेश-ओडिशा और बंगाल में देखने को मिल सकता है। जानमाल के संभावित नुकसान से बचने के लिए आंध्र प्रदेश सरकार  ने अलर्ट घोषित कर दिया है। स्कूल- कालजों के साथ कई ट्रनों को रद कर दिया गया है। इसके अलावा बंगाल और ओडिशा में भी अलर्ट जारी कर दिया गया है। ओडिशा के पुरी में भी चक्रवात तूफान जवाद को लेकर चेतावनी जारी की गई है। सभी मछुआरों को समुद्र में ना जाने की सलाह दी गई है।

भारत मौसम विज्ञान विभाग की माने तो जवाद के आज उत्तरी आंध्र प्रदेश और दक्षिण ओडिशा तक पहुंचने की संभावना है। इसके बाद पुरी में आज भारी बारिश हो हो सकती है। इस दौरान 80 से 100 किमी प्रति घंटे की रफ्तार से तेज हवाएं चलने की संभावना है। IMD ने यह भी बताया है कि चक्रवाती तूफान अस्थायी अवधि के लिए समुद्र में बड़े तूफान में तब्दील हो जाएगा और 110 किमी प्रति घंटा की गति से हवाएं चल सकती हैं।

आंध्र प्रदेश के विशाखापट्टनम जिले से 3- 4 दिसंबर को लगभग 65 ट्रेनों को रद कर दिया गया है। शुक्रवार को पूर्वी तट रेलवे ने यह जानकारी दी है। पूर्वी तट रेलवे के शीर्ष अधिकारी ए.के. त्रिपाठी ने कहा कि चक्रवात जवाद के चलते इन सभी ट्रेनों का रद किया गया है। तूफान के खतरे को देखते हुए जिला प्रशासन ने भी विशाखापट्टनम और श्रीकाकुलम जिलों के सभी स्कूलों को शनिवार तक बंद करने का आदेश दिया है। चक्रवात तूफान से निपटने को लेकर केंद्र व राज्य सरकारें पूरी तरह अलर्ट हैं।

बता दें कि चक्रवाती तूफान जवाद के चलते तटीय आंध्र प्रदेश, ओडिशा और पश्चिम बंगाल में भारी बारिश होने की आशंका जताई गई है। मौसम विभाग ने तीनों राज्यों में रेड अलर्ट जारी किया है। इसके साथ ही इस दौरान उत्तरी महाराष्ट्र, गुजरात और पश्चिमी तटीय इलाकों में भी भारी बारिश की संभावना जताई गई है। इस बीच, लगभग 46 राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (एनडीआरएफ) की टीमों को ओडिशा, पश्चिम बंगाल और आंध्र प्रदेश में 46 टीमों को तैनात किया गया है।

शुक्रवार को कैबिनेट सचिव राजीव गौबा ने चक्रवाती तूफान जवाद से निपटने के लिए राज्यों और केंद्रीय मंत्रालयों और एजेंसियों की तैयारियों की समीक्षा के लिए राष्ट्रीय संकट प्रबंधन समिति की दूसरी बैठक की अध्यक्षता की।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.