MP Flood Updates : सीएम शिवराज सिंह ने राहत व बचाव कार्य के लिए सेना की 4 टुकड़ियों की मांग की, अटल सागर मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेटों को खोला गया

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ में फसे लोगों के राहत व बचाव कार्य के लिए सेना की 4 टुकड़ियों की मांग की हैं। शिवपुरी जिले में स्थित अटल सागर मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेटों को खोल दिया गया है।

Avinash RaiTue, 03 Aug 2021 06:27 PM (IST)
सीएम शिवराज सिंह ने राहत व बचाव कार्य के लिए सेना की 4 टुकड़ियों की मांग की

मध्य प्रदेश, एएनआइ। बारिश और बाढ़ से मध्य प्रदेश के लोगों को भारी मुसीबतों का सामना करना पड़ रहा है। राज्य के मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बाढ़ में फंसे लोगों को बचाने के लिए सेना से मदद मांगी है। मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी से प्रदेश आई बाढ़ के लिए सेना की मदद पर चर्चा की। मोदी ने आश्वासन दिया है कि केंद्र द्वारा राज्य की हर संभव मदद की जाएगी।

मुख्यमंत्री शिवराज सिंह चौहान ने बताया कि बाढ़ के कारण फंसे लोगों के राहत व बचाव कार्य के लिए सेना की 4 टुकड़ियों की मांग की गई हैं। प्रदेश में एसडीआरएफ की टीम अच्छा काम कर रही है। उन्होंने बताया कि राज्य के 2 मंत्री शिवपुरी जिले में हैं और स्थिति की निगरानी कर रहे हैं और मुझसे बातचीत कर रहे हैं।

भारी बारिश की वजह से पार्वती, कूनो, क्वारी और सिंध नदी उफान पर हैं। बारिश की वजह से सिंध नदी का जल स्तर बढ़ गया है, जिसकी वजह से शिवपुरी जिले में स्थित अटल सागर मड़ीखेड़ा बांध के 10 गेटों को खोल दिया गया है। अनुमान यह है कि बांध से पानी छोड़ने से स्थिति और भी बिगड़ सकती है।

मौसम विभाग ने राज्य में भारी बारिश होने का अलर्ट पहले ही जारी किया था। गौरतलब है कि भारी बाढ़ के कारण श्योपुर, शिवपुरी, दतिया, चंबल और ग्वालियर के 1171 गांव प्रभावित दिख रहे हैं। इस साल की भारी बारिश ने शिवपुरी और श्योपुर में पिछले 40 साल के रिकॉर्ड को तोड़ दिया, ग्वालियर और चंबल जिले में पिछले कई दिनों से भारी बारिश देखने को मिल रही है। राज्य में एयरफोर्स की 5 टीमें लगातार रेस्क्यू ऑपरेशन चला रही हैं, रेस्क्यू ऑपरेशन में कुछ जगहों पर दिक्कतें भी आई है। बाढ़ के इलाकों से एनडीआरएफ और एसडीआरएफ की टीम ने 1600 से ज्यादा लोगों को सुरक्षित बाहर निकाला है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.