top menutop menutop menu

CAB Protest: गुवाहाटी में लगा कर्फ्यू, हाई अलर्ट पर डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया रेलवे स्टेशन

CAB Protest: गुवाहाटी में लगा कर्फ्यू, हाई अलर्ट पर डिब्रूगढ़ और तिनसुकिया रेलवे स्टेशन
Publish Date:Wed, 11 Dec 2019 06:36 PM (IST) Author: Manish Pandey

गुवाहाटी, एजेंसियां। पूर्वोत्तर के राज्यों असम और त्रिपुरा में बुधवार को नागरिकता संशोधन विधेयक का विरोध तेज हो गया है। दोनों ही राज्यों में जमकर आगजनी और हिंसा हुई है। प्रदर्शनकारियों ने वाहनों और रेलवे स्टेशनों को आग के हवाले कर दिया। हिंसा और आगजनी के चलते सुरक्षा बलों को फायरिंग तक करनी पड़ी। लिहाजा असम के शहर गुवाहाटी और डिब्रूगढ़ में अनिश्चितकाल के लिए कर्फ्यू लगा दिया गया और चार जिलों में सेना तैनात कर दी गई।

त्रिपुरा में भी सेना के नियंत्रण वाले अर्धसैनिक बल असम राइफल्स को तैनात कर दिया गया है। राज्य में एक प्रदर्शनकारी के मारे जाने की बात भी कही जा रही है। पूर्वोत्तर का सेना मुख्यालय पूरे हालात पर नजर रखे हुए है। हालांकि, त्रिपुरा के मुख्यमंत्री बिप्लब कुमार देव ने दावा किया है कि ज्वाइंट मूवमेंट अगेंस्ट सिटीजनशिप अमेंडमेंट बिल ने अपना अनिश्चितकालीन आंदोलन वापस ले लिया है। सेना के पीआरओ लेफ्टिनेंट कर्नल पी. खोंगसई ने बताया कि गुवाहाटी शहर में सेना की दो टुकड़ि‍यां तैनात की गई हैं और वे शहर में फ्लैग मार्च कर रही हैं। तिनसुकिया, जोरहट और डिब्रूगढ़ जिलों में भी सेना तैनात की गई है।

इंटरनेट सेवा निलंबित

असम के अतिरिक्त मुख्य सचिव कुमार संजय कृष्ण ने बताया कि राज्य के 10 जिलों में बुधवार शाम से इंटरनेट सेवा निलंबित कर दी गई है ताकि प्रदर्शनकारी सोशल मीडिया का दुरुपयोग नहीं कर सकें। ये जिले हैं- लखीमपुर, धीमाजी, तिनसुकिया, डिब्रूगढ़, चरायदेव, शिवसागर, जोरहट, गोलाघाट, कामरूप (मेट्रो) और कामरूप। जबकि पूरे त्रिपुरा में मंगलवार से ही 48 घंटों के लिए इंटरनेट सेवा निलंबित है। त्रिपुरा सरकार ने एक आदेश जारी एसएमएस पर भी प्रतिबंध लगा दिया है।

कर्फ्यू के बावजूद सड़कों पर प्रदर्शनकारी

बुधवार को हजारों कैब विरोधी प्रदर्शनकारी असम की सड़कों पर उतर आए और कई जगहों पर उनका पुलिस के साथ संघर्ष हुआ। असम के छात्र आंदोलन के बाद राज्य में पहली बार इस तरह के हालात बने हैं। गुवाहाटी में कर्फ्यू की अवहेलना करके प्रदर्शनकारी सड़कों पर जमे हुए हैं और शहर की ज्यादातर सड़कों को उन्होंने ब्लॉक कर रखा है।

दो रेलवे स्टेशनों को लगाई आग

पूर्वोत्तर फ्रंटियर रेलवे के प्रवक्ता ने बताया कि असम में प्रदर्शनकारियों ने बुधवार रात डिब्रूगढ़ के चाबुआ रेलवे स्टेशन और तिनसुकिया जिले के पानीटोला रेलवे स्टेशनों को आग लगा दी। डिब्रूगढ़ राज्य के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल का गृह नगर है। प्रदर्शनकारी छात्रों और सुरक्षा बलों के बीच राज्य सचिवालय के सामने झड़प भी हुई। छात्र नेताओं ने दावा किया कि पुलिस कार्रवाई में कई प्रदर्शनकारी घायल हुए हैं।

सूत्रों के मुताबिक, गुवाहाटी, डिब्रूगढ़ और जोरहट में सैकड़ों प्रदर्शनकारियों को हिरासत में लिया गया है। त्रिपुरा की राजधानी में भी ऐसी ही घटनाएं हुई हैं। असम की राजधानी दिसपुर में प्रदर्शनकारियों को तितर-बितर करने के लिए सुरक्षा बलों को फायरिंग तक करनी पड़ी। प्रदर्शनकारियों ने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और जापानी प्रधानमंत्री एबी शिंजो के सम्मेलन के लिए बनाया गया मंच भी तोड़ दिया।

असम के सरकारी कर्मचारियों ने भी प्रदर्शनकारी छात्रों के प्रति एकजुटता दिखाते हुए राज्य सचिवालय के गेट पर कैब के खिलाफ नारेबाजी की। असम में प्रदर्शन के चलते परीक्षाएं स्थगित कर दी गई हैं और 31 ट्रेनों को रद या उनका गंतव्य बदल दिया गया है।

आज त्रिपुरा बंद का आह्वान

त्रिपुरा में कांग्रेस ने गुरुवार को बंद का आह्वान किया है, हालांकि असम में किसी पार्टी या छात्र संगठन ने बंद का आह्वान नहीं किया है। जबकि प्रदर्शकारियों में ज्यादातर छात्र हैं।

सोनोवाल एयरपोर्ट पर फंसे

असम के मुख्यमंत्री सर्बानंद सोनोवाल विरोध प्रदर्शन के चलते कुछ देर के लिए इंटरनेशनल एयरपोर्ट पर फंस गए। अधिकारियों ने बताया कि मुख्यमंत्री हेलीकॉप्टर से तेजपुर से लौटे थे। बाद में मुख्यमंत्री का काफिला ब्रह्मपुत्र गेस्टहाउस पहुंचा, जहां वह रहते हैं।

 

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.