केंद्र अगले 5 वर्षों में स्वास्थ्य क्षेत्र में 64,000 करोड़ का निवेश करेगा: मनसुख मांडविया

मंडाविया ने बातचीत के दौरान कहा पहले कभी भी स्वास्थ्य पर खर्चा करने को नहीं देखा जाता था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वर्तमान केंद्र सरकार अपनी विभिन्न स्वास्थ्य कल्याण योजनाओं के माध्यम से सभी को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए इसी तर्ज पर काम कर रही है।

Nitin AroraPublish:Sat, 27 Nov 2021 08:10 AM (IST) Updated:Sat, 27 Nov 2021 09:43 AM (IST)
केंद्र अगले 5 वर्षों में स्वास्थ्य क्षेत्र में 64,000 करोड़ का निवेश करेगा: मनसुख मांडविया
केंद्र अगले 5 वर्षों में स्वास्थ्य क्षेत्र में 64,000 करोड़ का निवेश करेगा: मनसुख मांडविया

तवांग, एएनआइ। केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मांडविया ने शुक्रवार को कहा कि केंद्र सरकार अगले पांच साल में देश में स्वास्थ्य ढांचा तैयार करने में करीब 64,000 करोड़ रुपये का निवेश करेगी। केंद्रीय मंत्री, जो अरुणाचल प्रदेश के तवांग जिले के एक दिवसीय दौरे पर थे, ने खंड्रो द्रोवा जांगमो जिला अस्पताल में स्वास्थ्य कर्मियों के साथ बातचीत करते हुए कहा कि केंद्र सरकार विभिन्न स्वास्थ्य कल्याण योजनाओं के माध्यम से सभी को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए काम कर रही है।

आधिकारिक बयान के अनुसार, मंडाविया ने बातचीत के दौरान कहा, 'पहले कभी भी स्वास्थ्य पर खर्चा करने को नहीं देखा जाता था। प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के नेतृत्व में वर्तमान केंद्र सरकार अपनी विभिन्न स्वास्थ्य कल्याण योजनाओं के माध्यम से सभी को स्वास्थ्य सुरक्षा प्रदान करने के लिए इसी तर्ज पर काम कर रही है।'

केंद्र के आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के लाभों पर जोर देते हुए, जो देश भर के अस्पतालों के डिजिटल स्वास्थ्य समाधानों को एक दूसरे से जोड़ेगा, मंत्री ने कहा, 'हमें आयुष्मान भारत डिजिटल मिशन के साथ काम करना है। इससे हम किसी मरीज के इतिहास को जान सकेंगे और उन्हें गुणवत्तापूर्ण स्वास्थ्य सेवाएं प्रदान कर सकेंगे। अगले पांच वर्षों में देश में स्वास्थ्य के बुनियादी ढांचे में सुधार के लिए 64,000 करोड़ रुपये का निवेश किया जाएगा।'

राज्य के स्वास्थ्य प्रमुख सचिव डा शरत चौहान ने पावरपाइंट प्रेजेंटेशन के माध्यम से राज्य के समग्र स्वास्थ्य परिदृश्य को प्रस्तुत किया और केंद्रीय मंत्री को COVID-19 प्रबंधन और टीकाकरण की स्थिति से अवगत कराया। इसके अलावा अरुणाचल प्रदेश के इंडियन मेडिकल एसोसिएशन (IMA) के अध्यक्ष डा लोबसंग त्सेतिम ने केंद्रीय मंत्री को राज्य में IMA के कामकाज की जानकारी दी और केंद्र सरकार द्वारा टोमो रीबा इंस्टीट्यूट आफ हेल्थ एंड मेडिकल साइंसेज (TRIHMS), नाहरलागुन को अपने हाथों में लेने का अनुरोध किया, जिससे इसके भविष्य की स्थिरता, गुणवत्तापूर्ण शिक्षा और सेवा पर ध्यान दिया जा सके। उन्होंने राज्य में एक सुपर स्पेशियलिटी अस्पताल की तत्काल आवश्यकता और सभी मौजूदा प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्रों में बड़े पैमाने पर सुधार की आवश्यकता पर भी चिंता व्यक्त की।

इससे पहले दिन में केंद्रीय मंत्री ने केडीएस जिला अस्पताल, तवांग के आईपीडी वार्ड का दौरा किया और मरीजों से बातचीत की और फल बांटे। उन्होंने केडीएस जिला अस्पताल, तवांग के जन औषधि औषधालय का भी दौरा किया।