INMA 2019: जागरण न्यू मीडिया के सीईओ भरत गुप्ता बोले, हमारी प्राथमिकताओं पर पाठकों की पहली पहुंच

नई दिल्ली, जेएनएन। INMA South Asia Media Festival 2019: दिल्ली में चार दिवसीय इंटरनेशनल न्यूज मीडिया एसोसिएशन (INMA) महोत्सव आयोजित किया गया। INMA दक्षिण एशिया मीडिया महोत्सव में प्रिंट और डिजिटल मीडिया पारिस्थितिकी तंत्र में सर्वोत्तम प्रथाओं को पता लगाने, समझने, विकसित करने के लिए आयोजित किया गया। फेस्टिवल के अंतिम दिन जागरण न्यू मीडिया के सीईओ भरत गुप्ता ने हिस्सा लिया। इस दौरान उन्होंने कहा कि अन्य डिजिटल प्लेटफार्म को नेविगेट करना आपके स्वंय विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभा सकता है लेकिन सामग्री की गुणवत्ता और विश्वसनीयता, पत्रकारिता की नैतिकता को ध्यान में रखा जाना चाहिए। इसके साथ ही उन्होंने कहा कि  हमारी प्राथमिकताओं पर पाठकों की पहली पहुंच है।

INMA साउथ एशिया मीडिया फेस्टिवल में डिजिटल मीडिया प्रकाशकों के ट्रैफिक को चलाने में थर्ड पार्टी प्लेयर की भूमिका पर अपने विचार व्यक्त करते हुए भरत गुप्ता ने सुझाव दिया कि तेजी से बढ़ते डिजिटल मीडिया की दुनिया में प्रकाशकों को थर्ड पार्टी की जरूरतों के अनुसार सामग्री नहीं बनानी चाहिए। हम ऐसी सामग्री का उत्पादन करते हैं जो हमारे दर्शकों के लिए उच्च गुणवत्ता और उद्देश्यपूर्ण रूप से उत्पन्न होती है।

भारत के सबसे बड़े प्रिंट और रेडियो प्रकाशक समूह जागरण प्रकाशन लिमिटेड के डिजिटल विंग जागरण न्यू मीडिया की पिछले तीन वर्षों की यात्रा के बारे में भरत गुप्ता ने बताया कि कैसे ट्रैफिक को और विश्वसनीय बनाने के लिए ट्रैफिक के लिए थर्ड पार्टी के प्लेयर्स पर निर्भरता से कंपनी आगे बढ़ी है। 

जागरण न्यू मीडिया के बारे में भरत ने कहा कि हमारे पास जो पाठक हैं वे गंभीर नेचर के हैं और परिपक्व सामग्री की तलाश में हैं। हम यूसी जैसे तीसरे पक्ष के प्लेटफार्मों की जरूरतों के अनुसार सामग्री तैयार करने में विश्वास नहीं करते हैं। हम ऐसी सामग्री के उत्पादन में विश्वास करते हैं जो हमारे दर्शकों के लिए उच्च गुणवत्ता और उद्देश्यपूर्ण रूप से उत्पन्न होती है। हम अवसरों का पता लगाएंगे और तीसरे पक्ष के प्लेटफार्मों पर वापस जाएंगे लेकिन अपनी शर्तों पर जिसमें सामग्री की गुणवत्ता प्रथम है। 

इसके साथ ही भरत गुप्ता ने कहा कि हमारे 60 फीसद यूजर्स तीन साल पहले यूसी से थे। हमने केवल अपने ही प्लेटफॉर्म पर आने वाले ट्रैफिक पर ध्यान केंद्रित करने का फैसला किया और हमने खुद के लिए अच्छा प्रदर्शन किया है और मुझे यह कहते हुए गर्व हो रहा है कि आज हमारे पास 76 मिलियन यूजर्स हैं।

इसके साथ ही उन्होंने कहा कि हमने जागरण की तरह सिंगल ब्रांड अप्रोच लगाने के बजाय ऑडियंस-सेगमेंटेशन के दौर में जाने का फैसला किया। हमने अलग-अलग ऑडियंस के लिए अलग-अलग ब्रांड बनाने का फैसला किया। हम बहुत ध्यान केंद्रित कर रहे थे कि उन ब्रांडों को उस दर्शक वर्ग के लिए सामग्री की पेशकश के संदर्भ में, आयु वर्ग के संदर्भ में या पूरी स्थिति के संदर्भ में क्या करना था। इसलिए स्वास्थ्य के लिए हमारे पास onlymyhealth.com है। शिक्षा के लिए हमारे पास jagranjosh.com है। महिलाओं के लिए हमारे पास herzindagi.com है।  

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.