असम: उल्फा प्रमुख परेश बरुआ समेत पांच लोगों के खिलाफ एनआइए ने आरोपपत्र किया दाखिल

गौरतलब है कि यह मामला यूनाइटेट लिबरेशन फ्रंट ऑफ असोम-इंडिपेंडेंट (उल्फा-आई) कैडर द्वारा पुलिस दल पर किए गए ग्रेनेड हमले से जुड़ा है जिसमें 12 लोग घायल हुए थे। एनआइए अधिकारी के मुताबिक परेश बरुआ ने इस हमले की जिम्मेदारी ली थी।

Shashank PandeyThu, 16 Sep 2021 07:48 AM (IST)
परेश बरुआ और उल्फा के चार अन्य सदस्यों के खिलाफ आरोप पत्र दाखिल।(फोटो: दैनिक जागरण)

गुवाहाटी, प्रेट्र। राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआइए) ने उग्रवादी समूह उल्फा (आइ) के प्रमुख परेश बरुआ और चार अन्य सदस्यों के खिलाफ 2019 में हुए बम हमले की साजिश में संलिप्तता और देश के खिलाफ युद्ध छेड़ने के आरोप में एक विशेष कोर्ट में पूरक आरोपपत्र दाखिल किया है। एनआइए के अधिकारी ने बताया कि बरुआ के अलावा पप्पू कोच बोकोलियाल, अमृत बल्लभ गोस्वामी, अरुणोदोय दाहोतिया और मुन्ना बरुआ के खिलाफ भदवि और यूए (पी) अधिनियम की संगत धाराओं के तहत आरोप लगाए गए हैं।यह मामला उल्फा (आइ) के दो सदस्यों द्वारा गुवाहाटी में पुलिस पार्टी पर बम फेंके जाने से संबंधित है। इस घटना में 12 लोग घायल हो गए थे। एनआइए अधिकारी ने कहा कि परेश बरुआ ने हमले की जिम्मेदारी ली थी। एनआइए ने मामला फिर से दर्ज किया और जांच अपने हाथों में ले ली। जांच एजेंसी आठ आरोपितों के खिलाफ आरोपपत्र दाखिल कर चुकी है।

तमिलनाडु- मेडिकल में पढ़ाई की इच्छुक एक और छात्रा ने जान दी

तमिलनाडु में राष्ट्रीय पात्रता सह प्रवेश परीक्षा (नीट) में असफल होने से डरी एक और छात्रा ने बुधवार को आत्महत्या कर ली। एमबीबीएस की पढ़ाई की इच्छुक 17 वर्षीया लड़की सौंदर्या वेल्लौर जिले के गांव तालायारामपट्टू की रहने वाली थी और उसे नीट में सफलता नहीं मिलने का डर सता रहा था। चार दिनों के भीतर राज्य में आत्महत्या करने वाली यह तीसरी विद्यार्थी है। सबसे पहले 12 सितंबर को जब राष्ट्रीय स्तर पर परीक्षा आयोजित होने जा रही थी तब धनुष ने आत्महत्या कर ली थी। मुख्यमंत्री एमके स्टालिन और अन्य पार्टियों के नेताओं ने प्रभावित परिवार को अपनी शोक संवेदना व्यक्त की और विद्यार्थियों से ऐसे कठोर कदम नहीं उठाने की अपील की। सरकार ने नीट में शामिल होने वाले विद्यार्थियों की काउंसिलिंग के लिए एक टोल फ्री नंबर 104 की घोषणा की। राज्य की द्रमुक सरकार ने तमिलनाडु को नीट के दायरे से बाहर रखने के लिए एक विधेयक भी पारित किया है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.