top menutop menutop menu

21 जुलाई से शुरू हो सकती है अमरनाथ यात्रा, वैष्णो देवी मंदिर खोलने पर विचार

जागरण ब्यूरो, नई दिल्ली। कोरोना की चुनौतियों के बीच सरकार अमरनाथ यात्रा को संपन्न कराने के लिए विकल्पों की तलाश में जुट गई है। पीएमओ में राज्यमंत्री जीतेंद्र सिंह की अध्यक्षता में उच्च स्तरीय बैठक में इस पर विस्तार से चर्चा हुई।

एक दिन में 500 यात्रियों व केवल बालटाल रूट खोलने पर हो रहा विचार

जिन विकल्पों पर विचार किया गया, उनमें एक दिन में केवल 500 यात्रियों को अनुमति देने और यात्रा के लिए बालटाल रूट खोलने जैसे विकल्प शामिल है, लेकिन इस पर अभी तक कोई फैसला नहीं हुआ और अंतिम फैसला अगले हफ्ते होने की उम्मीद है। इसके साथ ही सरकार 21 जुलाई से यात्रा प्रारंभ करने पर विचार कर रही है।

उच्च पदस्थ सूत्रों के अनुसार अमरनाथ यात्रा को लेकर हुई बैठक में जीतेंद्र सिंह और गृह राज्यमंत्री जी कृष्ण रेड्डी के अलावा गृहमंत्रालय और जम्मू-कश्मीर प्रशासन के वरिष्ठ अधिकारी शामिल थे। जम्मू-कश्मीर प्रशासन की ओर से बताया गया कि राज्य में कोरोना की स्थिति गंभीर बनी हुई है और लगभग 9000 हजार लोग इससे संक्रमित हो चुके हैं। इसके कारण राज्य के स्वास्थ्य कर्मियों को बड़े पैमाने पर कोरोना के इलाज में लगाया गया है।

यात्रा के दौरान यात्रियों के इलाज के लिए डाक्टरों की होगी कमी

गृहमंत्रालय ने भी यात्रा के दौरान यात्रियों के इलाज के लिए डाक्टरों की कमी का हवाला दिया। अ‌र्द्धसैनिक बलों के डाक्टरों को भी विभिन्न कोरोना अस्पतालों में लगाया गया है। जबकि दुर्गम पहाड़ी रास्ते में यात्रा के दौरान यात्रियों को स्वास्थ्य संबंधित दिक्कतों का सामना करना पड़ता है। जाहिर है यात्रियों की बड़ी संख्या की देखभाल के लिए पर्याप्त डाक्टरों को उपलब्ध कराना मुश्किल होगा।

पिछले साल अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकना पड़ा था

ध्यान देने की बात है कि पिछले साल भी अनुच्छेद 370 और 35ए को निरस्त करने व जम्मू-कश्मीर को दो भागों में बांटकर केंद्र शासित प्रदेश के गठन के चलते सुरक्षा को ध्यान में रखते हुए अमरनाथ यात्रा को बीच में रोकना पड़ा था।

वैष्णो देवी को यात्रियों के लिए खोलने पर विचार

अमरनाथ यात्रा के साथ ही बैठक में वैष्णो देवी को यात्रियों के लिए खोलने के मुद्दे पर विचार किया गया। स्थानीय प्रशासन ने बताया कि वैष्णो देवी मंदिर 31 जुलाई तक के लिए यात्रियों के लिए बंद कर दिया गया है। उसके बाद उसे खोलने पर विचार किया जा सकता है। इसके तहत पहले स्थानीय निवासियों को दर्शन की अनुमति दी जा सकती है। इसके साथ ही बैठक में जम्मू-कश्मीर में विभिन्न विकास योजनाओं के क्रियान्वयन की भी समीक्षा की गई।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.