वायुसेना कमांडरों ने संसाधनों के प्रभावी इस्तेमाल पर किया विचार, युद्धक क्षमता बढ़ाने पर चर्चा

चीफ ऑफ एयर स्टाफ एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया। (फोेटो: दैनिक जागरण)

भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए युद्धक क्षमता में बढ़ोतरी पर चर्चा। वायुसेना प्रमुख ने नई प्रौद्योगिकियों को शामिल करने पर बल दिया। सम्मेलन की शुरुआत बुधवार को हुई। हालांकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इसकी औपचारिक शुरुआत गुरुवार को की।

Shashank PandeySun, 18 Apr 2021 07:52 AM (IST)

नई दिल्ली, प्रेट्र। वायुसेना के शीर्ष कमांडरों ने बल के संचालन को लेकर नए तौर-तरीकों पर चर्चा की, ताकि भविष्य की चुनौतियों से निपटने के लिए इसकी युद्धक क्षमता में बढ़ोतरी की जा सके। अधिकारियों ने बताया कि तीन दिवसीय सम्मेलन में कमांडरों ने संसाधनों के प्रभावी इस्तेमाल की रूपरेखा और भविष्य में बल में नए विमानों एवं हथियारों को शामिल करने के साथ ही वायु सुरक्षा के सभी सांगठनिक पहलुओं एवं संयुक्त कमान ढांचे पर चर्चा की।

वायुसेना के एक प्रवक्ता ने बताया कि वायुसेना प्रमुख एयर चीफ मार्शल आरकेएस भदौरिया ने आर्टिफिशियल इंटेलीजेंस (एआइ) और 5जी जैसी नई प्रौद्योगिकियों को शामिल करने की जरूरत पर बल दिया। साथ ही उन्होंने साइबर एवं अंतरिक्ष क्षेत्र के ज्यादा इस्तेमाल की जरूरत बताई।अधिकारियों ने कहा कि वायुसेना प्रमुख ने संचालन क्षमता के लिए सिद्धांतों, युक्तियों एवं प्रक्रियाओं को लगातार अपडेट करने पर जोर दिया।

प्रवक्ता ने कहा, सम्मेलन में हिस्सा लेने वालों ने प्रधानमंत्री द्वारा संयुक्त कमांडर सम्मेलन के दौरान बताए गए कार्यो एवं इसके बाद की योजनाओं को लागू करने पर भी चर्चा की। संयुक्त कमांडर सम्मेलन गुजरात के केवडिया में पिछले महीने आयोजित किया गया था।अधिकारी ने बताया कि सम्मेलन में अन्य जिन प्रमुख विषयों पर चर्चा हुई उनमें भारतीय वायुसेना को खतरे वाले सभी क्षेत्रों में भविष्य की चुनौतियों के लिए तैयार करना और संसाधनों के उपयुक्त इस्तेमाल और भविष्य में शामिल किए जाने वाले विमान-हथियार आदि शामिल रहे। सम्मेलन की शुरुआत बुधवार को हुई। हालांकि रक्षा मंत्री राजनाथ सिंह ने इसकी औपचारिक शुरुआत गुरुवार को की।

शहीद की याद में दिल्ली के नौसेना स्टेशन में नए ब्लाक का उद्घाटन

वाइस एडमिरल जी. अशोक कुमार ने नई दिल्ली में नौसेना स्टेशन पर एक नए ब्लाक का उद्घाटन किया। शुक्रवार को नए ब्लाक का उद्घाटन कर नौसेना उप प्रमुख ने लेफ्टिनेंट धरमबीर सिंह सिहाग को श्रद्धांजलि दी। कश्मीर में 12 अगस्त, 1999 को आतंकियों की ओर से हो रही अंधाधुंध फाय¨रग के बीच बारूदी सुरंग को डिफ्यूज करते हुए लेफ्टिनेंट सिहाग शहीद हो गए थे।भारतीय नौसेना ने ट्वीट किया, 'शहीद लेफ्टिनेंट धरमबीर सिंह सिहाग को श्रद्धांजलि देते हुए वाइस चीफ आफ नेवल स्टाफ वाइस एडमिरल जी. अशोक कुमार ने शहीद की याद में 16 अप्रैल को नौसेना स्टेशन दिल्ली में नए ब्लाक का उद्घाटन किया। लेफ्टिनेंट सिहाग सेना मेडल (बहादुरी)(मरणोपरांत) से सम्मानित थे।'लेफ्टिनेंट सिहाग बारूदी सुरंग हटाने वाली टीम का नेतृत्व कर रहे थे। बारूदी सुरंग उनकी टीम को आगे बढ़ने से रोक रही थी। भारी गोलीबारी के जवाब में उन्होंने आतंकियों को पीछे हटने पर बाध्य किया था। बारूदी सुरंग डिफ्यूज करते हुए रिमोट से कराए गए विस्फोट में वह शहीद हो गए थे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.