बढ़ गई है हमारी क्षमता, की जा रही जरूरी कार्रवाई; पूर्वी लद्दाख के हालात पर बोले वायुसेना प्रमुख

वायु सेना प्रमुख एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने शनिवार को पूर्वी लद्दाख के हालात पर वार्ता जारी रहने की जानकारी दी है। वायु सेना प्रमुख ने कहाइसके अलावा हालात पर नजदीक से नजर रखी जा रही है। हम सभी जरूरी कार्रवाई कर रहे हैं।

Monika MinalSat, 19 Jun 2021 10:43 AM (IST)
हमारी क्षमता जो एक साल पहले थी आज उससे कहीं ज्यादा है- भदौरिया

 नई दिल्ली, एएनआइ। पूर्वी लद्दाख में चीन का मुकाबला करने के लिए भारत आज कहीं अधिक क्षमता के साथ तैयार है। वायुसेना प्रमुख एयर मार्शल आरकेएस भदौरिया ने शनिवार को भारत चीन सीमा पर तनाव के मुद्दे पर बताया कि पिछले साल भी तनाव के मद्देनजर हमारी सेना तैनात थी और अब तो उस मुकाबले हमारी ताकत अधिक हो गई है। साथ ही  वायु सेना प्रमुख ने पूर्वी लद्दाख के हालात पर वार्ता जारी रहने की जानकारी दी है।

वायु सेना प्रमुख ने कहा,'इसके अलावा हालात पर नजदीक से नजर रखी जा रही है। हम सभी जरूरी कार्रवाई कर रहे हैं।' उन्होंने बताया, 'अगले चरण के लिए वार्ता जारी है। कमांडर स्तरीय वार्ता और तनावपूर्ण जगहों से सेना वापसी के लिए प्रस्ताव है। पहला प्रयास वार्ता जारी रखने और तनाव कम करने का है।' उन्होंने आगे कहा, एक साल पहले जब सीमा पर तनाव हुआ था हमने तैनाती की थी। उसके बाद एक साल में हमारी ताकत को कम करने का तो सवाल ही पैदा नहीं है। इस एक साल में हमने भी कदम उठाए हैं और काम किया है। हमारी क्षमता जो एक साल पहले थी आज उससे कहीं ज्यादा है।'

इसके अलावा देश के वायुसेना प्रमुख एयरमार्शल आरकेएस भदौरिया (RKS Bhadauria) ने 2022 तक वायुसेना में 36 राफेल विमान शामिल होने की बात कही। फ्रांस से राफेल मिलने को लेकर योजना पर पूछे गए सवाल के जवाब में उन्होंने बताया कि वायुसेना अपने राफेल को लेकर निर्धारित लक्ष्य के बिल्कुल करीब है।

पिछले एक साल में चीन और भारत दोनों ने ही सुरक्षा घेरा को मजबूत किया है। बता दें कि लद्दाख में 50,000 से अधिक अतिरिक्त भारतीय सैनिकों को तैनात किया गया है। कुछ सैनिकों को सर्दियों में वापस बुला लिया गया था लेकिन अब उन्हें फिर से तैनात किया गया है क्योंकि चीनी पीपुल्स लिबरेशन आर्मी (पीएलए) तिब्बत में अपना युद्ध अभ्यास जारी रखा हुआ है।

 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.