UPSC NDA II 2021: यूपीएससी ने पहली बार पिंक किया अप्लीकेशन पोर्टल, NDA परीक्षा के लिए महिला उम्मीदवारों के लिए खुली अप्लीकेशन विंडो

UPSC NDA II 2021 वकील कुश कालरा ने कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। याचिकाकर्ता का कहना था कि ये महिलाओं के साथ भेदभाव है। संविधान में पुरुष और महिला को बराबर का हक दिया गया है इसलिए इन दोनों प्रतिष्ठित संस्थाओं में महिलाओं का भी प्रवेश होना चाहिए।

Nandini DubeyFri, 24 Sep 2021 02:47 PM (IST)
यूपीएससी एनडीए परीक्षा में शामिल होने के लिए इंतजार कर रहीं महिला उम्मीदवारों के लिए आज का दिन महत्वपूर्ण है

UPSC NDA II 2021: यूपीएससी एनडीए परीक्षा में शामिल होने के लिए इंतजार कर रहीं महिला उम्मीदवारों के लिए आज का दिन बेहद महत्वपूर्ण है। संघ लोक सेवा आयोग ने आज से यानी कि, 24 सितंबर, 2021 से महिलाओं के एप्लीकेशन प्रोसेस शुरू कर दिया गया है। इसके तहत आयोग ने पहली बार पोर्टल को पिंक कलर का किया है। वहीं पोर्टल पर लिखा हैं, एनडीए II केवल महिला उम्मीदवारों के लिए। इसके तहत अब महिला उम्मीदवार इस परीक्षा के लिए रजिस्ट्रेशन कर सकती हैं। बता दें कि अभी तक इस परीक्षा में केवल पुरुष ही भाग ले सकते थे। लेकिन सुप्रीम कोर्ट में एक जनहित याचिका दाखिल कर मांग की गई थी कि राष्ट्रीय रक्षा अकादमी और एवं नौसेना अकादमी में महिलाओं को भी प्रवेश दिया जाए।

इस संबंध में वकील कुश कालरा ने कोर्ट में एक याचिका दायर की थी। याचिकाकर्ता का कहना था कि ये महिलाओं के साथ भेदभाव है। संविधान में पुरुष और महिला को बराबर का हक दिया गया है, इसलिए इन दोनों प्रतिष्ठित संस्थाओं में महिलाओं का भी प्रवेश होना चाहिए। उन्होंने कहा था कि, सेना में युवा अधिकारियों की नियुक्ति करने वाले नेशनल डिफेंस एकेडमी लड़कों को ही दाखिला मिलता है। ऐसा करना उन योग्य लड़कियों के मौलिक अधिकारों का हनन है, जो सेना में शामिल होकर देश की सेवा करना चाहती हैं।

इसके बाद कोर्ट ने इस फैसले पर सुनवाई करते हुए महिलाओं को इस परीक्षा में शामिल होने की अनुमति दी थी। लेकिन बाद में केंद्र ने हलफनामा दायर कर सुप्रीम कोर्ट को बताया था कि मई 2022 में लड़कियों को भी राष्ट्रीय रक्षा अकादमी में शामिल करने की अधिसूचना जारी हो जाएगी। इससे पहले तीनों सेनाओं के विशेषज्ञ महिला कैडेट के चयन के मापदंड तैयार करने में लगे हैं। इसी संबंध में केंद्र सरकार ने कहा था कि इस प्रक्रिया में वक्त लगेगा। ऐसे में महिलाओं के लिए आवेदन प्रक्रिया अगले साल शुरू की जाएगी, लेकिन फिर कोर्ट ने इस मामले पर सुनवाई करते हुए कहा है कि एक और साल का इंतजार करवाना ठीक नहीं होगी। इसको ही मद्देनजर रखते हुए आयोग ने आज से एप्लीकेशन प्रक्रिया शुरू कर दी है।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.