UPPSC recruitment 2019: विभिन्न पदों पर हो रही है भर्ती, आवेदन शुरू; जानें पूरी प्रक्रिया

प्रयागराज, जागरण संवाददाता। उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग (Uttar Pradesh Public Service COmmission- UPPSC) ने विभिन्न विभागों में अलग-अलग पदों की भर्ती प्रक्रिया शुरू कर दी है। हर पद के लिए अभ्यर्थियों को ऑनलाइन आवेदन करना होगा। ऑनलाइन आवेदन 19 नवंबर से ही शुरू हो जाएगा। आयोग ने मुद्रण व लेखन सामग्री विभाग के अंतर्गत अभियंता (विद्युत/यांत्रिक/इलेक्ट्रानिक्स), कार्मिक अधिकारी, व्यवसायिक शिक्षा व कौशल विभाग के अंतर्गत प्रधानाचार्य, उपप्रधानाचार्य/सहायक निदेशक, नगर व ग्राम नियोजन विभाग के अंतर्गत सहायक वास्तुविद नियोजन, उत्तर प्रदेश उद्यान व खाद्य प्रसंस्करण विभाग के अंतर्गत शोध अधिकारी, कृषि विपणन व कृषि विदेश व्यापार विभाग के अंतर्गत सहायक कृषि विपणन अधिकारी, पशुपालन विभाग के अंतर्गत पशु चिकित्साधिकारी की भर्ती निकाली है।

अभ्यर्थियों को हर पद पर सिर्फ ऑनलाइन आवेदन करना होगा। ऑफलाइन आवेदन स्वीकार नहीं किया जाएगा। ऑनलाइन आवेदन शुल्क जमा करने की अंतिम तारीख 16 दिसंबर तय की गई है। जबकि ऑनलाइन आवेदन सब्मिट करने की अंतिम तारीख 19 दिसंबर है। अभ्यर्थियों को इसी समयावधि में आवेदन करने के साथ उसका शुल्क जमा करना होगा। तय तारीख के बाद आवेदन स्वीकार नहीं होगा।

UPPSC अध्यक्ष को अभ्यर्थियों ने लिखा सामूहिक पत्र

रिजल्ट व नियुक्ति की मांग पूरी न होने पर एलटी ग्रेड शिक्षक भर्ती परीक्षा 2018 के अभ्यर्थियों में असमंजस की स्थिति है। वे दोनों मुद्दों का निस्तारण कराने के लिए उत्तर प्रदेश लोक सेवा आयोग अध्यक्ष से मिलने की तैयारी कर रहे हैं। इसके मद्देनजर सोमवार को इलाहाबाद विश्वविद्यालय के छात्रसंघ भवन पर अभ्यर्थियों व चयनितों का जमघट हुआ। एलटी समर्थक मोर्चा के बैनर तले जुटे सैकड़ों प्रतियोगियों ने आयोग अध्यक्ष को सामूहिक पत्र लिखकर उनसे मिलने का समय मांगा है। इसके साथ ही 26 नवंबर से आयोग में शुरू होने वाले अनिश्चितकालीन प्रदर्शन का खाका तैयार किया गया।

वक्ताओं ने कहा कि एसटीएफ जांच के नाम पर हंिदूी व सामाजिक विज्ञान विषय का रिजल्ट रोका गया है जबकि जांच के नाम पर कुछ नहीं हो रहा है। एसटीएफ की सारी कार्रवाई पूरी हो चुकी है, बावजूद उसके रिजल्ट जारी करने में आनाकानी करके अभ्यर्थियों के भविष्य से खिलवाड़ किया जा रहा है। अभ्यर्थियों ने एकस्वर में तय किया है कि 26 नवंबर से शुरू होने वाला प्रदर्शन न्याय व अधिकार मिलने तक जारी रहेगा। मोर्चा संयोजक विक्की खान, अनिल उपाध्याय, मनोज वर्मा, अर्पणा पांडेय ने विचार व्यक्त किए।

1952 से 2019 तक इन राज्यों के विधानसभा चुनाव की हर जानकारी के लिए क्लिक करें।

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.