UP Board Exam 2021: हाई स्कूल और इंटरमीडिएट बोर्ड परीक्षाओं पर इस सप्ताह हो सकता है फैसला, 20 मई से होने हैं एग्जाम

सीबीएसई, आईसीएसई और कई राज्यों के बोर्ड ने 12वीं की परीक्षाएं फिलहाल स्थगित कर रखी हैं।

UP Board Exam 2021 10वीं परीक्षाओं के शुरू होने में अब सिर्फ 10 दिन बचे रह गये हैं और उत्तर प्रदेश समेत में कोविड-19 महामारी की स्थिति के चलते परीक्षाओं को सीबीएसई आईसीएसई एवं विभिन्न राज्यों की तरह रद्द किये जाने की मांग स्टूडेंट्स द्वारा की जा रही है।

Rishi SonwalMon, 10 May 2021 09:29 AM (IST)

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। UP Board Exam 2021: उत्तर प्रदेश माध्यमिक शिक्षा परिषद (यूपीएमएसपी) की हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की बोर्ड परीक्षाओं का आयोजन 20 मई 2021 से किया जाना प्रस्तावित है। ऐसे में जबकि परीक्षाओं के शुरू होने में अब सिर्फ 10 दिन बचे रह गये हैं और उत्तर प्रदेश समेत पूरे देश में कोविड-19 महामारी की स्थिति गंभीर बनी हुई है, यूपी बोर्ड 10वीं की परीक्षाओं को केंद्रीय बोर्ड सीबीएसई और आईसीएसई एवं विभिन्न राज्यों की तरह रद्द किये जाने की मांग स्टूडेंट्स द्वारा की जा रही है। इसी प्रकार इंटरमीडिएट परीक्षाओं का भी आयोजन भी फिलहाल न किये जाने और इसे स्थगित किये जाने की मांग की जा रही है। सीबीएसई, आईसीएसई और कई राज्यों के बोर्ड ने 12वीं की परीक्षाएं फिलहाल स्थगित कर रखी हैं।

इंटर्नल एसेसमेंट सिस्टम की चुनौतियां

दूसरी तरफ सीबीएसई, आईसीएसई और कई अन्य राज्यों के ईवैल्यूएशन पैटर्न को देखें तो यहां पूरे एकेडिमक सेशन के दौरान कई यूनिट टेस्च, मिड-टर्म, आदि लिये जाते हैं। इसी के चलते ये सभी बोर्ड इंटर्नल मार्क्स के आधार पर रिजल्ट घोषित करने में सक्षम हैं। हालांकि, यूपी बोर्ड के ज्यादातर स्कूलों में साप्ताहिक, मासिक और मिड-टर्म (अर्ध-वार्षिक) जैसी परीक्षाओं का आयोजन कोविड-19 के कारण प्रभावित हुए और देर से शुरू हुए सत्र के कारण नहीं किया जा सका है। ऐसे में 10वीं की बोर्ड परीक्षाओं के रद्द किये जाने और इंटर्नल एसेसमेंट के आधार रिजल्ट जारी किये जाने की संभवना फिलहाल नजर नहीं आ रही है।

यह भी पढ़ें - UP Board 10th, 12th Exams 2021: यूपी बोर्ड हाई स्कूल और इंटर बोर्ड परीक्षाओं पर जल्द होगा फैसला, छात्र कर रहे हैं रद्द करने की मांग

स्टूडेंट्स की बड़ी संख्या भी है चुनौती

केंद्रीय बोर्ड सीबीएसई, आईसीएसई और विभिन्न राज्यों के अलग-अलग बोर्ड की तुलना नें यूपी बोर्ड में हाई स्कूल और इंटरमीडिएट की कक्षाओं में स्टूडेंट्स की संख्या कहीं अधिक है। ऐसे में इन स्टूडेंट्स के इंटर्नल एसेसमेंट के मार्क्स का संकलन आसान नहीं होगा। सरकार या बोर्ड द्वारा हाई स्कूल एवं इंटरमीडिएट परीक्षाओं पर कोई निर्णय न ले पाने के पीछे यह भी एक बड़ा कारण हो सकता है।

यह भी पढ़ें - UP Board Exam 2021: CBSE की तरह यूपी बोर्ड स्टूडेंट्स को नहीं कर सकता प्रमोट, जानें- क्या है वजह

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.