UGC ने लिए बडे फैसले, पीएचडी दाखिले के लिए अब NET और यूजी, पीजी के लिए CET होगा जरूरी

यूजीसी ने पीएचडी दाखिले के लिए राष्ट्रीय परीक्षा परीक्षा यानि नेट परीक्षा उत्तीर्ण जरूरी कर दिया है। साथ ही इन केंद्रीय सहायता प्राप्त उच्च शिक्षा संस्थानों में विभिन्न स्नातक और परास्नातक पाठयक्रमों में दाखिला सामान्य प्रवेश परीक्षा यानि सीईटी के माध्यम से लिए जाने की निर्देश दिये हैं।

Rishi SonwalWed, 01 Dec 2021 08:38 AM (IST)
यूजीसी के पीएचडी, पीजी और यूजी दाखिले के लिए जारी किये नये नियम शैक्षणिक सत्र यानि 2022-23 से लागू होंगे।

नई दिल्ली, ऑनलाइन डेस्क। विश्वविद्यालय अनुदान आयोग (यूजीसी) ने देश भर के केंद्रीय सहायता प्राप्त विश्वविद्यालयों में रिसर्च, अंडर-ग्रेजुएट और पोस्ट-ग्रेजुएट दाखिले को लेकर बड़े फैसले किये हैं। आयोग ने पीएचडी दाखिले लिए राष्ट्रीय प्रवेश परीक्षा यानि नेट परीक्षा उत्तीर्ण जरूरी कर दिया है। साथ ही, इन केंद्रीय सहायता प्राप्त उच्च शिक्षा संस्थानों में विभिन्न स्नातक और परास्नातक पाठयक्रमों में दाखिला सामान्य प्रवेश परीक्षा यानि सीईटी के माध्यम से लिए जाने की निर्देश दिये हैं। यूजीसी द्वारा पीएचडी, पीजी और यूजी दाखिले के लिए जारी किये नये नियम अगले शैक्षणिक सत्र यानि 2022-23 से लागू होगा।

केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए केंद्रीय पात्रता परीक्षा या सीईटी राष्ट्रीय परीक्षा एजेंसी (एनटीए) द्वारा कम से कम 13 भाषाओं में आयोजित की जाएगी। प्रवेश के लिए सीईटी स्कोर पर विचार करने के लिए निजी और अन्य डीम्ड विश्वविद्यालयों को भी यूजीसी ने सुझाव दिये हैं। बता दें कि केंद्रीय विश्वविद्यालयों के लिए सीईटी इस साल से शुरू होने की उम्मीद थी, लेकिन महामारी के कारण इसे टाल दिया गया था।

यूजीसी ने सभी विश्वविद्यालयों के कुलपतियों को लिखे पत्र में लिखा है, " सभी केंद्रीय विश्वविद्यालयों को शैक्षणिक सत्र 2022-2023 से कॉमन एंट्रेंस टेस्ट के लिए उचित उपाय करने की सलाह दी जाती है। ये परीक्षाएं कम से कम 13 भाषाओं में आयोजित की जाएंगी। जो एनटीए पहले से ही जेईई और एनईईटी परीक्षा आयोजित कर रहा है। कॉमन एंट्रेंस टेस्ट को इच्छुक राज्य / निजी विश्वविद्यालयों / डीम्ड यूनिवर्सिटीज द्वारा भी अपनाया जा सकता है।" परिवर्तन राष्ट्रीय शिक्षा नीति, एनईपी 2020 के अनुसार प्रस्तावित किए गए हैं।”

एनईपी ने देश के सभी विश्वविद्यालयों में प्रवेश के लिए एक केंद्रीय परीक्षा का प्रस्ताव रखा था, जिससे बोर्ड परीक्षाओं पर निर्भरता कम हो गई। सीईटी से सभी छात्रों के लिए एक समान प्लेटफॉर्म प्रदान करने की भी उम्मीद है। वहीं, अब शैक्षणिक वर्ष 2022-23 से लागू होने की उम्मीद है, जो अगले वर्ष के छात्रों के लिए है।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.