Class 10 Evaluation Criteria 2021: इन फॉर्मूले से तैयार होंगे सीबीएसई समेत विभिन्न राज्य बोर्ड की 10वीं कक्षा के परिणाम, जानें इवैल्यूएशन क्राइटेरिया डिटेल्स

Class 10 Evaluation Criteria 2021 सीबीएसई के बाद कई राज्य बोर्डों ने 10वीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और मूल्यांकन मानदंड जारी किए हैं। हालांकि कुछ राज्यों ने अभी तक मूल्यांकन मानदंड को अंतिम रूप नहीं दिया है।

Rishi SonwalMon, 21 Jun 2021 01:43 PM (IST)
सीबीएसई के अलावा कई स्टेट बोर्ड ने 10वीं कक्षा के रिजल्ट तैयार करने का फॉर्मूला साझा किया है।

Class 10 Evaluation Criteria 2021: भारत में दूसरी कोविड -19 लहर के बीच, केंद्रीय माध्यमिक शिक्षा बोर्ड (CBSE) ने इस वर्ष अप्रैल में कक्षा 10 के स्टूडेंट्स के लिए बोर्ड परीक्षाओं को रद्द कर दिया था। वहीं, सीबीएसई के बाद, कई राज्य बोर्डों ने 10वीं कक्षा की परीक्षाओं को रद्द कर दिया है और मूल्यांकन मानदंड जारी किए हैं। हालांकि, कुछ राज्यों ने अभी तक मूल्यांकन मानदंड को अंतिम रूप नहीं दिया है। वहीं, सीबीएसई के अलावा यूपी, महाराष्ट्र, ओडिशा, वेस्ट बंगाल समेत अन्य कई स्टेट बोर्ड ने 10वीं कक्षा के रिजल्ट तैयार करने का फॉर्मूला साझा कर दिया है।

यहां जानें बोर्ड के अनुसार कैसे तैयार होंगे 10वीं के रिजल्ट

सीबीएसई: सीबीएसई द्वारा जारी मूल्यांकन मानदंड के मुताबिक, कक्षा 10 के स्टूडेंट्स के लिए मूल्यांकन प्रत्येक विषय के लिए बोर्ड द्वारा निर्धारित कुल 100 अंकों के अनुसार किया जाना है। इनमें से 20 मार्क्स स्टूडेंट्स के आंतरिक मूल्यांकन के लिए होंगे। जबकि, बचे हुए 80 मार्क्स स्टूडेंट्स के एकेडमिक ईयर के दौरान आयोजित विभिन्न टेस्ट/परीक्षाओं के आधार पर होंगे। इन 80 अंकों में से पीरियॉडिक टेस्ट / यूनिट टेस्ट के लिए 10 अंक, हाफ ईयर्ली या मिड-टर्म एग्जाम के लिए 30 अंक और प्री-बोर्ड एग्जाम के लिए 40 अंक निर्धारित हैं।

यूपी बोर्ड: कोविड-19 के कारण 10वीं की रद्द हुई परीक्षा के लिए यूपी बोर्ड ने इवैल्यूएशन क्राइटेरिया जारी कर दिया है। जिसके अनुसार, 10वीं कक्षा के परिणाम कक्षा 9 के 50 प्रतिशत अंक और कक्षा 10 के प्री-बोर्ड के 50 प्रतिशत अंक को जोड़कर तैयार किया जाएगा। वहीं, ऐसे स्टूडेंट्स जो कि मूल्यांकन पद्धति के अनुसार रिजल्ट से संतुष्ट नहीं होंगे, तो उनके लिए स्थिति सामान्य होने पर परीक्षा आयोजित की जाएगी।

महाराष्ट्र बोर्ड: महाराष्ट्र बोर्ड की कक्षा 10 के नतीजे छात्रों के उनकी कक्षा 9 और कक्षा 10 के इंटरनल असेसमेंट के आधार पर तैयार किए जाएंगे। जिनमें 50 प्रतिशत वेटेज कक्षा 9 और 50 प्रतिशत वेटेज कक्षा 10 के लिए होगा।

ओडिशा बोर्ड: ओडिशा बोर्ड द्वारा जारी मानदंड के अनुसार, 10वीं कक्षा के छात्रों का मूल्यांकन कक्षा 9 और कक्षा 10 के अंकों के आधार पर किया जाएगा। बोर्ड द्वारा पिछले चार वर्षों की कक्षा 10 की परीक्षा में एक स्कूल के प्रदर्शन पर भी विचार किया जाएगा। कक्षा 10 के छात्रों के लिए, कक्षा 9 की अर्ध-वार्षिक परीक्षा, वार्षिक परीक्षा और कक्षा 10 में आयोजित प्रैक्टिस टेस्ट में उनके प्रदर्शन के आधार पर अंक दिए जाएंगे।

वेस्ट बंगाल बोर्ड: कक्षा 10 के लिए, वेस्ट बंगाल बोर्ड ने रिजल्ट तैयार करने के लिए 50:50 का फॉर्मूला अपनाने का फैसला किया है। इनमें 50 प्रतिशत अंक कक्षा 9 की वार्षिक परीक्षा में प्राप्त अंकों के आधार पर दिए जाएंगे। जबकि, शेष 50 प्रतिशत शैक्षणिक वर्ष के दौरान कक्षा 10 के आंतरिक मूल्यांकन के अंकों से प्राप्त किए जाएंगे।

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.