Maharashtra: पंकजा मुंडे बोलीं, प्रीतम मुंडे और मैंने कभी मंत्रीस्तरीय बर्थ की मांग नहीं की

Maharashtra प्रीतम मुंडे और मैंने कभी मंत्रीस्तरीय बर्थ की मांग नहीं की। जिन लोगों ने शपथ ली है उनसे मेरा कोई मतभेद नहीं है क्योंकि वे भी गोपीनाथ मुंडे के अनुयायी हैं पंकजा मुंडे अपनी बहन को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान मंत्री पद नहीं मिलने पर

Sachin Kumar MishraFri, 09 Jul 2021 03:32 PM (IST)
पंकजा मुंडे बोलीं, प्रीतम मुंडे और मैंने कभी मंत्रीस्तरीय बर्थ की मांग नहीं की। फाइल फोटो

मुंबई, एएनआइ। पंकजा मुंडे अपनी बहन को केंद्रीय मंत्रिमंडल विस्तार के दौरान मंत्री पद नहीं मिलने पर शुक्रवार को कहा कि प्रीतम मुंडे और मैंने कभी कुछ (मंत्रिस्तरीय बर्थ) की मांग नहीं की। जिन लोगों ने शपथ ली है, उनसे मेरा कोई मतभेद नहीं है क्योंकि वे भी गोपीनाथ मुंडे के अनुयायी हैं। वहीं, देवेंद्र फड़नवीस ने वीरवार को इस बात का खंडन किया था कि प्रीतम मुंडे को केंद्र मंत्रिमंडल में शामिल नहीं करने से उनकी बड़ी बहन पंकजा मुंडे नाराज हैं। अब शिवसेना ने आरोप लगाया कि दिवंगत नेता गोपीनाथ मुंडे की बेटी और दो बार के सांसद प्रीतम मुंडे की जगह भाजपा के राज्यसभा सदस्य भागवत कराड को केंद्रीय मंत्रिपरिषद में शामिल करना उचित नहीं है खत्म करने की योजना है। पंकजा मुंडे के राजनीतिक कैरियर को खत्म करने की योजना है।

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने बुधवार को केंद्रीय मंत्रिमंडल में बदलाव किया, जिससे कराड ने नए वित्त राज्य मंत्री के रूप में कार्यभार संभाला। महाराष्ट्र के पेशे से डॉक्टर 64 वर्षीय कराड पहली बार राज्यसभा से सांसद (सांसद) हैं।

कयास लगाए जा रहे थे कि प्रीतम मुंडे को नई मंत्रिपरिषद में शामिल किया जाएगा, लेकिन उन्हें इसमें कोई जगह नहीं मिली। पार्टी के मुखपत्र 'सामना' के संपादकीय में शिवसेना ने कहा कि भागवत कराड को राज्य मंत्री बनाया गया है। यह पंकजा मुंडे के (राजनीतिक करियर) को खत्म करने के उद्देश्य से उठाया गया कदम है। भाजपा नेता दिवंगत गोपीनाथ मुंडे के साये में पले-बढ़े कराड को (पंकजा की बहन) प्रीतम मुंडे की जगह मंत्री बनाया गया. इसमें संदेह की गुंजाइश है कि क्या इस कदम का उद्देश्य वंजारा समुदाय (जिसमें मुंडे और कराड हैं) में विभाजन पैदा करना है और पंकजा मुंडे को सबक देना है। साथ ही, भारती पवार और कपिल पाटिल को मंत्रिपरिषद में शामिल करना भाजपा के वफादारों के घावों पर नमक छिड़कने जैसा था। “पवार और पाटिल दोनों ने हाल ही में भाजपा में शामिल होने के लिए राकांपा छोड़ दी थी। 

महाराष्ट्र के नेता नारायण राणे को भी नई कैबिनेट में जगह मिली है, यह अच्छी बात है। वह मूल रूप से भाजपा से नहीं हैं क्योंकि वह पहले शिवसेना और कांग्रेस के साथ थे। राणे को एमएसएमइ मंत्रालय का प्रभार दिया गया है। उन्हें इस सेक्टर की मौजूदा स्थिति को देखते हुए कदम उठाने होंगे। देश के वाणिज्य और उद्योग को झटका लगा है। छोटी इकाइयों को जीवित रहना मुश्किल हो रहा है। इसलिए यह देखा जाना बाकी है कि राणे क्या उपाय करते हैं। “सभी की निगाहें केंद्रीय मंत्रिमंडल के विस्तार पर टिकी थीं। ऐसा संसद का मानसून सत्र शुरू होने से पहले किया गया है। राजनाथ सिंह और मुख्तार अब्बास नकवी को छोड़कर बाकी सभी मंत्री नए हैं। उनमें से ज्यादातर मूल रूप से भाजपा या संघ परिवार से नहीं हैं। नए मंत्रिमंडल में भाजपा या राष्ट्रीय जनतांत्रिक गठबंधन (एनडीए) के सार का अभाव है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.