नौसेना व कोस्ट गार्ड को 90 लापता लोगों की तलाश, टाक्टे के कारण उठी ऊंची समुद्री लहरें कई नौकाओं को दूर बहा ले गईं

नौसेना ने इस मिशन को बेहद कठिन अभियानों में से एक बताया।

नौसेना के उपप्रमुख वाइस एडमिरल एम.एस.पवार के मुताबिक यह मेरे 40 साल के कैरियर में सबसे मुश्किल अभियान है। मौसम और समुद्र किसी को बख्शता नहीं है। टाक्टे के कारण उठी ऊंची समुद्री लहरें कई नौकाओं को दूर बहा ले गईं।

Bhupendra SinghTue, 18 May 2021 11:57 PM (IST)

राज्य ब्यूरो, मुंबई। चक्रवात टाक्टे की चपेट में आई एक रिहायशी नौका पर फंसे 90 से ज्यादा लोगों की तलाश अब भी जारी है। भारतीय नौसेना और कोस्ट गार्ड बार्ज पी-305 नामक इस नौका (बजरा) से 180 लोगों को निकालने में कामयाब रहे हैं। इस नौका के अलावा भी कई नावों एवं आयल रिग से सैकड़ों लोगों को बचाया जा चुका है।

टाक्टे मुंबई हाई आफशोर क्षेत्र को बड़ा नुकसान पहुंचा गया

गोवा से गुजरात की ओर जाते हुए समुद्री तूफान टाक्टे मुंबई हाई आफशोर क्षेत्र को बड़ा नुकसान पहुंचा गया है। मुंबई हाई में सार्वजनिक क्षेत्र की तेल खनन कंपनी ओएनजीसी के कई आयल रिग्स (तेल के कुएं) हैं। इन आयल रिग्स में काम करनेवाले लोगों के लिए रिग्स के पास ही रिहायशी नौकाएं रखी जाती हैं, जिनमें सैकड़ों लोग रहते हैं।

टाक्टे के कारण उठी ऊंची समुद्री लहरें कई नौकाओं को दूर बहा ले गईं

टाक्टे के कारण उठी ऊंची समुद्री लहरें ऐसी कई नौकाओं को दूर बहा ले गईं। इनमें सर्वाधिक प्रभावित नौका पी-305 पर 273 लोग रह रहे थे। कर्मचारियों के बीच पापा-305 के नाम से जानी जाने यह नौका ओएनजीसी की हीरा फील्ड के पास एंकर डाले हुई थी। नौसेना सूत्रों के अनुसार सोमवार रात इस नौका को डूबते देखा गया। दुर्घटना के वक्त पी-305 पर सवार करीब 180 लोगों को बचाने में नौसेना कामयाब रही। जबकि अन्य की तलाश जारी है। बुधवार को भी नौसेना का खोज एवं बचाव अभियान जारी रहेगा।

मेरे 40 साल के कैरियर में सबसे मुश्किल अभियान: नौसेना उपप्रमुख

नौसेना के उपप्रमुख वाइस एडमिरल एम.एस.पवार के मुताबिक यह मेरे 40 साल के कैरियर में सबसे मुश्किल अभियान है। मौसम और समुद्र किसी को बख्शता नहीं है।

नौसेना के जंगी जहाज बचाव कार्य में जुटे

बता दें कि मुंबई हाई पर टाक्टे का कहर टूटने के बाद से ही नौसेना के जंगी जहाज आइएनएस कोच्चि एवं आइएनएस कोलकाता प्रभावितों की खोज एवं बचाव में जुट गए थे। मंगलवार को दिन में आइएनएस ब्यास, आइएनएस बेतवा एवं आइएनएस तेग भी इस अभियान में लग गए। नौसेना के हेलीकाप्टर सी किंग एवं कोस्टगार्ड के हेलीकाप्टर चेतक भी हवाई सर्वेक्षण एवं बचाव में लगे रहे।

नौसेना ने सैकड़ों लोगों को बचाया

नौसेना एवं तटरक्षक बल के संयुक्त बचाव अभियान के जरिये कुछ अन्य नौकाओं से बड़ी संख्या में सैकड़ों लोगों को बचाया जा सका। इनमें अपने स्थान से काफी दूर चली गई बार्ज जीएएल कंस्ट्रक्टर से 137 लोगों को बचाया गया। इसी तरह सपोर्ट स्टेशन-3, ग्रेट शिप अदिति और ड्रिल शिप सागर भूषण से भी लोगों को निकाला गया।

टाक्टे के मुंबई से गुजर जाने के बाद भी हवा की रफ्तार सामान्य नहीं हुई

नौसेना सूत्रों के अनुसार टाक्टे के मुंबई से गुजर जाने के बाद भी मुंबई हाई क्षेत्र में समुद्री लहरें और हवा की रफ्तार अभी सामान्य नहीं हुई है। इसके कारण खोज एवं बचाव अभियान में मुश्किल खड़ी हो रही है।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.