Maharashtra Floods: CM उद्धव ठाकरे ने कहा - बाढ़ से हुए नुकसान की होगी वित्‍तीय समीक्षा, स्‍थापित होगा NDRF शैली का अलग तंत्र

Maharashtra Floodsमहाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने रविवार को राज्‍य के बाढ़ प्रभावित चिपलून इलाके का दौरा करते हुए कहा कि राज्‍य में बाढ़ से हुए नुकसान की एक दो दिनों में वित्तीय समीक्षा की जाएगी साथ ही बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ-शैली का एक अलग तंत्र स्थापित किया जाएगा।

Babita KashyapMon, 26 Jul 2021 07:58 AM (IST)
मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने कहा बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ-शैली का एक अलग तंत्र स्थापित किया जाएगा।

मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे ने बाढ़ प्रभावित चिपलून के अपने दौरे के दौरान कहा कि राज्य में बाढ़ से हुए नुकसान की एक दो दिनों में वित्तीय समीक्षा की जाएगी। इसके साथ ही राज्य में बार-बार बाढ़ आने के कारण सभी बाढ़ प्रभावित जिलों में एनडीआरएफ-शैली का एक अलग तंत्र स्थापित किया जाएगा। उन्होंने संबंधित जिला कलेक्टरों को बाढ़ पीड़ितों को भोजन, दवा, कपड़े और अन्य जरूरी चीजें तत्काल उपलब्ध कराने के भी निर्देश दिए।

"संकटों की पुनरावृत्ति को देखते हुए, इन सभी संबंधित जिलों में एक अलग एनडीआरएफ-शैली तंत्र स्थापित किया जाएगा। हालांकि राज्य आपदा प्रतिक्रिया बल मौजूद है, लेकिन एनडीआरएफ-शैली तंत्र अधिक सक्षम होगा। मुख्‍यमंत्री ने कहा मैं अभी लोकप्रियता हासिल करने के लिए कुछ भी घोषणा नहीं करूंगा, राज्य में बाढ़ की स्थिति की व्यापक समीक्षा के बाद ही मुआवजे की घोषणा की जाएगी, साथ ही ये भी देखा जाएगा कि केंद्र से क्या और कितनी मदद मांगी जा सकती है। उन्होंने बताया कि बाढ़ प्रभावित क्षेत्रों में लोगों की सहायता करते समय तकनीकी दिक्कतों से बचने के लिए प्रशासन को उचित निर्देश दिए गए हैं।

मुख्‍यमंत्री ठाकरे ने कहा, "आपको केंद्र सरकार से उचित मदद मिल रही है। मैंने प्रधानमंत्री, गृह मंत्री और रक्षा मंत्री से बात की है। एनडीआरएफ, सेना, वायु सेना की इकाइयां राज्य सरकार को बाढ़ की स्थिति में मदद कर रही हैं।" पाटिल ने एक बयान में कहा कि कोल्हापुर में अब तक 75,000 से अधिक लोगों को सुरक्षित स्थानों पर पहुंचाया गया है। यह कहते हुए कि राज्य में लोगों के लिए बारिश, बाढ़, पानी कोई नई बात नहीं है, मुख्यमंत्री ने कहा कि इस बार जो हुआ वह अकल्पनीय था।

उन्होंने कहा, " बाढ़ से प्रभावित लोग पानी के तेज बहाव के कारण अपना सामान भी नहीं बचा सके। हम ऐसी घटनाओं को दोबारा होने से रोकने के लिए उचित बाढ़ प्रबंधन प्रणाली लागू करेंगे।" विनाशकारी 2019 की बाढ़ से अपना सबक सीखते हुए, कोल्हापुर प्रशासन ने हाल ही में शिरोल और करवीर तहसीलों में 57 स्थानों पर मोबाइल संचार के लिए वैश्विक प्रणाली स्थापित की है। इस प्रणाली को जिला योजना समिति की वार्षिक योजना से वित्त प्रदान किया गया है, जिसकी अध्यक्षता पाटिल करते हैं। भारी बारिश के कारण आई बाढ़ के दौरान सक्रिय इस प्रणाली ने लोगों को अपने घरों से बाहर न निकलने और आवश्यकता पड़ने पर सुरक्षित स्थानों पर जाने जैसी आवश्यक सावधानी बरतने का निर्देश दिया।

करवीर तहसील के 21 गांवों और शिरोल तहसील के 36 गांवों में यह सिस्टम लगाया गया है, इन गांवों में हर साल मानसून के दौरान बाढ़ का खतरा बना रहता है।

ठाकरे ने घोषणा की कि वह बारिश के बाद उस क्षेत्र में हुए नुकसान का आकलन करने के लिए सोमवार को पश्चिमी महाराष्ट्र का दौरा करेंगे। लगभग 150 राष्ट्रीय आपदा प्रतिक्रिया बल (NDRF) की टीमें भारत भर में बाढ़ और भूस्खलन प्रभावित क्षेत्रों में राहत और बचाव कार्यों में लगी हुई हैं, क्योंकि भारी बारिश ने कई राज्यों में सामान्य जीवन को बाधित कर दिया है। अकेले महाराष्ट्र में 34 टीमों को तैनात किया गया है।

महाराष्ट्र के स्वास्थ्य मंत्री राजेश टोपे ने रविवार को राज्य के बाढ़ प्रभावित इलाकों में लोगों को चिकित्सा सेवाएं मुहैया कराने के लिए चल रहे प्रयासों की समीक्षा की और उन्हें दूषित पानी से होने वाली बीमारियों से बचाव के निर्देश दिए। रायगढ़, रत्नागिरी, सिंधुदुर्ग, कोल्हापुर, सांगली, सतारा में जिला सर्जनों, जिला स्वास्थ्य अधिकारियों के साथ बातचीत के बाद स्वास्थ्य मंत्री को आवश्यक दवाओं, गोलियों और चिकित्सा टीमों से अवगत कराया गया। स्वास्थ्य मंत्री ने स्वास्थ्य अधिकारियों से बाढ़ के बाद रोगों के प्रसार को रोकने के लिए निवारक उपचार के लिए सतर्क रहने की भी अपील की।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.