Ganesh Chaturthi 2021: नासिक के कारीगर की अनोखी कलाकारी, सुपारी और कील पर भी तराशी गणपति की मूर्ति

Ganesh Chaturthi 2021 गणेश चतुर्थी के लिए नासिक के एक शिल्‍पकार ने सुपारी और कील पर गणेश जी की छोटी-छोटी प्रतिमाएं तैयार की हैं। संजय 22 साल से भी अधिक समय से ये कार्य कर रहे हैं। अब तक वे कुल 33500 मूर्तियां बना चुके हैं।

Babita KashyapWed, 08 Sep 2021 11:20 AM (IST)
नासिक के शिल्‍पकार संजय 22 वर्षो से ये कार्य कर रहे हैं।

नासिक, एएनआइ। देश भर में गणेश चतुर्थी की तैयारियां चल रही हैं। कारीगर भी दिन-रात एक करते हुए अपने हुनर को मूर्तियों में गढ़ते नजर आ रहे हैं और विभिन्‍न प्रकार की गणेश प्रतिमाएं Ganesha idols तैयार कर रहे हैं। हम आपको बता रहे हैं नासिक के एक ऐसे ही कलाकार के बारे में शिल्पकार संजय को महाराष्ट्र में वर्षों से सुपारी (Areca Nut) कील और कैसेट कवर Nails and cassette covers) पर गणेश की मूर्तियों (Ganesha Idols) को तराशने के लिए जाना जाता है।

संजय पिछले कई वर्षो से छोटी-छोटी गणेश प्रतिमाएं तैयार करते आ रहे हैं और अपने कारोबार का विस्तार कर रहे हैं। नासिक में उनकी अपनी वर्कशॉप और स्टोर है। एएनआई से बात करते हुए, संजय ने नासिक के एक प्रसिद्ध और अद्वितीय गणेश मूर्ति निर्माता के रूप में अपनी इस रोचक यात्रा की कहानी साझा की। उन्होंने कहा, "मैं इस व्यवसाय में 22 साल से भी अधिक समय से हूं और मैंने अब तक कुल 33,500 मूर्तियां बनाई हैं। ये मूर्तियां 3 से 5 इंच के आकार की हैं।"

आगे संजय ने बताया कि उनकी दुकान में सभी प्रकार की गणेश प्रतिमाओं का संग्रह हैं और उन्‍होंने सुपारी पर भी गणेश की मूर्तियां तैयार की हैं। उन्होंने कहा, "मैंने सुपारी और कीलों पर प्रत्येक में 11 गणेश मूर्तियों को उकेरा है और मेरी दुकान में विभिन्न प्रकार की मूर्तियां हैं।" COVID-19 प्रतिबंधों के कारण, देश भर के कारीगर इस साल 10 सितंबर से शुरू होने वाले इस 10 दिवसीय उत्सव पर छोटी और पर्यावरण के अनुकूल गणेश प्रतिमाएं बना रहे हैं।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.