Maharashtra: ईडी के सामने पेश नहीं हुए महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के पुत्र ऋषिकेश

Maharashtra ऋषिकेश पर आरोप है कि अनिल देशमुख के निर्देश पर मुंबई पुलिस के तत्कालीन एपीआई सचिन वाझे ने मुंबई के बारों व रेस्टोरेंटों से 4.70 करोड़ रुपये वसूल कर अनिल देशमुख सहायक कुंदन शिंदे को दिए थे।

Sachin Kumar MishraFri, 05 Nov 2021 07:59 PM (IST)
महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख। फाइल फोटो

मुंबई, राज्य ब्यूरो। महाराष्ट्र के पूर्व गृहमंत्री अनिल देशमुख के पुत्र ऋषिकेश देशमुख शुक्रवार को फिर प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) के सामने आने से कतरा गए। 100 करोड़ की वसूली मामले में उनके पिता अनिल देशमुख को ईडी सोमवार की रात गिरफ्तार कर चुकी है। इसी मामले में ऋषिकेश पर भी गिरफ्तारी की तलवार लटक रही है।ऋषिकेश पर आरोप है कि अनिल देशमुख के निर्देश पर मुंबई पुलिस के तत्कालीन एपीआई सचिन वाझे ने मुंबई के बारों व रेस्टोरेंटों से 4.70 करोड़ रुपये वसूल कर अनिल देशमुख सहायक कुंदन शिंदे को दिए थे। शिंदे के जरिए यह राशि अनिल देशमुख तक पहुंची। फिर उनके पुत्र ऋषिकेश ने दिल्ली के दो व्यवासियों सुरेंद्र व वीरेंद्र जैन से संपर्क कर यह राशि हवाला के जरिए उनके पास भेजवाई। उन लोगों ने दिल्ली की कुछ फर्जी कंपनियों के खाते से 4.18 करोड़ रुपये अनिल देश के एक पारिवारिक न्यास श्री साईं शिक्षण संस्थान को भिजवाई थी। हवाला के जरिए हुए इसी लेनदेन के बारे में ईडी ऋषिकेश से पूछताछ करना चाहती है। इसके लिए उन्हें तीन बार समन भेजा जा चुका है, लेकिन तीसरी बार समन भेजे जाने के बावजूद वह ईडी के सामने पेश नहीं हुए। अब तक ईडी इस मामले में अनिल देशमुख व उनके सहयोगियों की गिरफ्तारी कर चुकी है।

एनसीबी के सामने हाजिर हुए आर्यन खान

अभिनेता शाह रुख खान के पुत्र आर्यन खान शुक्रवार को दक्षिण मुंबई स्थित नार्कोटिक्स कंट्रोल ब्यूरो (एनसीबी) के कार्यालय में हाजिरी लगाने पहुंचे। मुंबई उच्च न्यायालय की शर्तों के अनुसार उन्हें हर शुक्रवार को दोपहर में 11 बजे से दो बजे के बीच एनसीबी कार्यालय में हाजिरी लगानी है। क्रूज ड्रग मामले में दो अक्तूबर को एनसीबी द्वारा गिरफ्तार किए गए आर्यन खान को पिछले सप्ताह शुक्रवार को ही उच्चन्यायालय ने सशर्त जमानत दी थी। जमानत के लिए उच्च न्यायालय द्वारा लगाई गई 14 शर्तों में से एक शर्त साप्ताहिक हाजिरी की भी है। इसके अनुसार ही आर्यन दोपहर एनसीबी कार्यालय पहुंचे। उच्च न्यायालय की अन्य प्रमुख शर्तों के अनुसार आर्यन पुलिस को बताए बिना मुंबई नहीं छोड़ सकेंगे। जिन गतिविधियों में शामिल होने के कारण उन्हें गिरफ्तार किया गया, वैसी गतिविधियों में वह दुबारा शामिल नहीं होंगे। इस मामले में अपने सहआरोपितों से बातचीत नहीं करेंगे। सबूतों से छेड़छाड़ की कोशिश नहीं करेंगे, तथा अपने केस के संबंध में मीडिया से बातचीत नहीं करेंगे। इन शर्तों का पालन न करने पर एनसीबी उच्च न्यायालय से उनकी जमानत रद करने का अनुरोध कर सकती है। 

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

Tags
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.