COVID-19 Third Wave: कोरोना की तीसरी लहर से मुकाबले के लिए तैयार मुंबई, BMC ने किए खास इंतजाम

COVID-19 Third Wave बृहन्मुंबईनगर निगम (BMC) ने कोरोना की तीसरी लहर को लेकर विज्ञप्ति जारी कर अपने इंतजामों के बारे में अवगत करवाया। बीएमसी का दावा है कि हम कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए पूरी तरह तैयार हैं।

Babita KashyapThu, 24 Jun 2021 09:39 AM (IST)
मुंबई कोरोना वायरस संक्रमण की संभावित तीसरी लहर का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार

मुंबई, पीटीआइ। बृहन्मुंबई नगर निगम (BMC) ने बुधवार को कहा कि वह महानगर में कोरोना वायरस संक्रमण की संभावित तीसरी लहर का सामना करने के लिए पूरी तरह तैयार है और उसने मामलों में वृद्धि से निपटने के लिए आवश्यक चिकित्सा सुविधाओं का भी इंतजाम कर लिया है।

अतिरिक्त नगर आयुक्त सुरेश काकानी ने दो दिवसीय समीक्षा के बाद एक विज्ञप्ति जारी कर बताया कि बीएमसी ने कोरोना की तीसरी लहर से निपटने के लिए विभिन्न अस्पतालों, जंबो कोविड केंद्रों और कोविड देखभाल केंद्रों में रोगियों के इलाज के लिए बेड तैयार कर लिए हैं। विज्ञप्ति के अनुसार मुंबई में सभी अस्पतालों और मेडिकल कॉलेजों के साथ-साथ जंबो केंद्रों में बच्चों के लिए अलग वार्ड स्थापित किए जा रहे हैं।" गर्भवती महिलाओं के लिए भी अलग वार्ड बनाए गए हैं। 

नागरिक निकाय ने कहा कि भले ही बीएमसी प्रशासन तीसरी लहर का सामना करने के लिए तैयार है लेकिन इसके बावजूद नागरिकों को कोविड​​-19 की रोकथाम से संबंधित सभी निर्देशों और दिशानिर्देशों का पालन करना चाहिए। विभिन्न नागरिक अस्पताल, जंबो कोविड केंद्र, कोरोना केयर सेंटर-1 (CCC-1) और कोरोना केयर सेंटर -2 (CCC2) COVID-19 रोगियों के लिए बेड से लैस हैं, BMC ने बताया यहां लगभग 2,000 वेंटिलेटर मौजूद हैं। विज्ञप्ति में कहा गया है कि पहले चरण में, नागरिक निकाय ने जंबो कोविड ​​-19 केंद्रों में 7,307 बेड स्थापित किए थे और वहां लगभग 77 मरीजों का इलाज किया गया था, जबकि दूसरे चरण में युद्ध स्तर पर 8,350 नए बेड स्थापित किए जा रहे हैं। 

बीएमसी के अनुसार, 8,350 नए बेड में से कांजुरमार्ग और मलाड में 2,200, नेस्को गोरेगांव में 1,500, सायन में 1,200, भायखला में 700, महालक्ष्मी रेसकोर्स में 450 और एनएससीआई वर्ली में 100 बेड स्थापित किए गए हैं। विज्ञप्ति में कहा गया है, "जंबो COVID-19 केंद्रों की कुल बिस्तर क्षमता को बढ़ाकर 15,657 कर दिया गया है। इनमें से 70 प्रतिशत बिस्तरों में ऑक्सीजन की आपूर्ति की सुविधा है और प्रत्येक जंबो COVID-19 केंद्र में तरल चिकित्सा भंडारण (Liquid Medical Storage Tanks) टैंक हैं।"

बीएमसी ने कहा कि विभिन्न अस्पतालों में वायुमंडलीय हवा से मेडिकल ग्रेड ऑक्सीजन उत्पन्न करने के लिए सिस्टम उपलब्ध कराया जा रहा है, जिसमें ऑक्सीजन सिलेंडर बैक-अप भी होगा। इससे गंभीर कोरोनावायरस रोगियों के इलाज के लिए ऑक्सीजन की कमी नहीं होगी।

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!

रोमांचक गेम्स खेलें और जीतें
एक लाख रुपए तक कैश अभी खेलें

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.