Maharashtra: सुपरमार्केट में शराब बिक्री पर अन्‍ना हजारे ने जताया ऐतराज, कहा- फैसला दुर्भाग्‍यपूर्ण

Liquor In Super Market Maharashtra सामाजिक कार्यकर्ता अन्‍ना हजारे ( Anna Hazare) ने सुपरमार्केट और किराना की दुकानों में शराब बिक्री के महाराष्ट्र सरकार के फैसले को दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया है। अन्‍ना ने कहा कि वित्‍तीय लाभ कमाने के लिए ये निर्णय ठीक नहीं है।

Babita KashyapPublish:Mon, 31 Jan 2022 02:34 PM (IST) Updated:Mon, 31 Jan 2022 02:34 PM (IST)
Maharashtra: सुपरमार्केट में शराब बिक्री पर अन्‍ना हजारे ने जताया ऐतराज, कहा- फैसला दुर्भाग्‍यपूर्ण
Maharashtra: सुपरमार्केट में शराब बिक्री पर अन्‍ना हजारे ने जताया ऐतराज, कहा- फैसला दुर्भाग्‍यपूर्ण

मुंबई, एएनआइ। सुपरमार्केट और किराना स्‍टोर में शराब की बिक्री की अनुमति देने के फैसले को सामाजिक कार्यकर्ता अन्‍ना हजारे (Anna Hazare) ने दुर्भाग्‍यपूर्ण बताया है। अन्‍ना हजारे ने इसका विरोध करते हुए कहा कि नशामुक्ति की दिशा में काम करना सरकार का कर्तव्य है, लेकिन मुझे यह देखकर दुख होता है कि यह वित्तीय लाभ के लिए सरकार ऐसे निर्णय ले रही है। जिसके परिणाम स्‍वरूप लोगों को शराब की लत लगेगी।

गौरतलब है कि महाराष्ट्र सरकार ने निर्णय लिया है कि अब किराना दुकानों और सुपर मार्केट में भी शराब की बिक्री की अनुमति दी जाएगी। सरकार ने यह फैसला शराब की बिक्री से होने वाले राजस्व को बढ़ाने के लिए लिया है। इस फैसले का विपक्षी पार्टी भाजपा भी पुरजोर विरोध कर रही है। कैबिनेट की बैठक में वीरवार को ये फैसला लिया गया था। इसके लिए राज्‍य सरकार 1000 वर्ग फुट से अधिक के सुपरमार्केट और किराना दुकानों में अलग काउंटर बनाकर शराब की बिक्री की अनुमति देगी। राकांपा प्रवक्ता और राज्य सरकार में मंत्री नवाब मलिक ने इस फैसले पर सहमति जताते हुए कहा था कि राज्य में शराब बनाने की कई फैक्ट्रियां हैं। राज्य सरकार ने यह फैसला शराब उत्पादकों की मदद के लिए ही लिया है।

संजय राउत बोले- किसानों को मिलेगा लाभ 

शिवसेना नेता संजय राउत (Sanjay Raut) ने भी महाराष्ट्र सरकार द्वारा सुपरमार्केट और किराने की दुकानों में शराब की बिक्री की अनुमति देने के बाद तर्क देते हुए कहा था कि अगर शराब की बिक्री बढ़ती है, तो किसानों को इसका लाभ मिलेगा। किसानों की आय बढ़कर दोगुनी होगी। भारतीय जनता पार्टी सिर्फ विरोध करना जानती है वह किसानों के लिए कुछ नहीं करती।

देवेंद्र फडणवीस ने जताया विरोध

सरकार के इस फैसले का विपक्ष के नेता देवेंद्र फडणवीस ने विरोध करते हुए कहा था कि राज्‍य की महा विकास अघाड़ी सरकार ने कोरोना काल में किसानों, गरीब और छोटे व्यापारियों के हित में एक भी फैसला नहीं लिया है। सरकार की प्राथमिकता तो सिर्फ शराब है। सत्ता के नशे में चूर सरकार को भी गरीबों की थोड़ी मदद करनी चाहिए। फडणवीस ने ट्वीट किया, पेट्रोल-डीजल से सस्ती हुई शराब।