दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

Coronavirus: महाराष्ट्र में कोरोना के 58924 नए मामले, मुंबई में 57 की गई जान

महाराष्ट्र में कोरोना के 58924 नए मामले, मुंबई में 57 की गई जान। फाइल फोटो

Coronavirus महाराष्ट्र में कोरोना के कुल मामले 3898262 तक पहुंच गए हैं। कोरोना से अब तक 60824 की मौत हो चुकी है। वहीं मुंबई में कोरोना के 7381 नए मामले सामने आए 8583 लोग डिस्चार्ज हुए और 57 मौतें हुईं हैं।

Sachin Kumar MishraMon, 19 Apr 2021 07:51 PM (IST)

मुंबई, एएनआइ। महाराष्ट्र में सोमवार को कोरोना के 58924 नए मामले सामने आए, 52412 रिकव हुए और 351 मौतें हुईं हैं। प्रदेश में कोरोना के कुल मामले 38,98,262 तक पहुंच गए हैं। कोरोना से अब तक 60,824 की मौत हो चुकी है। वहीं, मुंबई में कोरोना के 7381 नए मामले सामने आए, 8583 लोग डिस्चार्ज हुए और 57 मौतें हुईं हैं। इधर, कोरोना महामारी की दूसरी लहर ने पूरे देश में कहर बरपा रखा है। पहली लहर की तरह ही इसमें भी 70 फीसद से ज्यादा संक्रमित 40 साल से ज्यादा उम्र के लोग ही हैं। इसके साथ ही ज्यादा उम्र के लोगों के संक्रमित होने का खतरा अधिक है। भारतीय चिकित्सा अनुसंधान परिषद (आइसीएमआर) के महानिदेशक बलराम भार्गव ने प्रेस कांफ्रेंस में कहा कि कोरोना की पहली और दूसरी लहर में अस्पताल में भर्ती मरीजों में मृत्युदर में अंतर नहीं है। हालांकि, दूसरी लहर में ऑक्सीजन की ज्यादा जरूरत महसूस की जा रही है, लेकिन वेंटीलेटर की जरूरत पिछली बार की तुलना में कम देखी जा रही है।

भार्गव के मुताबिक महामारी की दूसरी लहर में कुछ खास लक्षणों की भी पहचान की गई है। मौजूदा लहर में सांस की तकलीफ झेल रहे मरीजों की संख्या बढ़ी है, जबकि पिछली बार सूखी खांसी और गले में खराश जैसे मामले ज्यादा मिल रहे थे।उन्होंने कहा कि उपलब्ध डाटा के मुताबिक दूसरी लहर में 54.5 फीसद मरीजों को ऑक्सीजन की जरूरत पड़ रही है, जबकि पहली लहर में ऐसे मरीजों की संख्या 41.5 फीसद थी। महामारी की दोनों लहरों में 70 फीसद से ज्यादा मरीज 40 साल से अधिक उम्र के हैं। पहली लहर की तुलना में इस बार युवा कुछ ज्यादा संक्रमित हो रहे हैं, लेकिन इनकी संख्या भी बहुत ज्यादा नहीं है। दूसरी लहर में बिना लक्षण वाले मरीजों की संख्या ज्यादा है। उन्होंने दूसरी पहल में 1,885 और पहली लहर में 7,600 मरीजों पर किए गए अध्ययन के आंकड़ों के आधार पर यह जानकारी दी। नीति आयोग के सदस्य (स्वास्थ्य) डॉ. वीके पॉल ने कहा, 'पिछली बार 30 साल से कम उम्र के 31 फीसद लोग कोरोना से संक्रमित हुए थे। जबकि दूसरी लहर में इतनी उम्र के 32 फीसद लोग संक्रमित हुए हैं।' उन्होंने ऑक्सीजन की बर्बादी नहीं होनी चाहिए। उन्होंने यह भी कहा कि रेमडेसिविर का इस्तेमाल अस्पताल में भर्ती ऑक्सीजन सपोर्ट वाले मरीजों पर किया जाना चाहिए। 

डाउनलोड करें हमारी नई एप और पायें अपने शहर से जुड़ी हर जरुरी खबर!
This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.