दिल्ली

उत्तर प्रदेश

पंजाब

बिहार

उत्तराखंड

हरियाणा

झारखण्ड

राजस्थान

जम्मू-कश्मीर

हिमाचल प्रदेश

पश्चिम बंगाल

ओडिशा

महाराष्ट्र

गुजरात

World Telecommunications Day: जानें कब, कैसे और कहां से हुई थी इस दिन को मनाने की शुरुआत

आइकन्स के साथ हाथ में पकड़ा स्मार्टफोन

World Telecommunications Day वर्ल्ड टेलीकम्युनिकेशन डे पहली बार 1969 में मनाया गया था लेकिन कब और कैसे हुई थी इसकी शुरुआत जानेंगे आज इसके बारे में। साथ ही नई तकनीकों से हाइटेक हो रहे ग्लोबल टेलीकम्युनिकेशन के भी बारे में..

Priyanka SinghMon, 17 May 2021 08:55 AM (IST)

कोरोनाकाल में पूरी दुनिया को टेलीकम्युनिकेशन की अहमियत समझ आ चुकी है, फिर वो टेलीमेडिसिन हो या बिजनेस या फिर वर्क फ्रॉम होम..हर जगह टेलीकम्युनिकेशन का अहम रोल है। आज इस खास मौके पर इस दिवस के बारे में कुछ खास बातें जानते हैं...

कब, कैसे और कहां से हुई शुरूआत?

- पहले अंतर्राष्ट्रीय टेलीग्राफ कन्वेंशन के हस्ताक्षर की वर्षगांठ भी17 मई को होती है। यूएन ने जब वर्ल्ड टेलीकम्युनिकेशन डे मनाने की घोषणा की थी तो उस दिन भी 17 मई ही थी। 

- साल 2006 के नवंबर में, तुर्की के अंताल्या में आईटीयू प्लेनिपोटेंटरी सम्मेलन ने 17 मई को वर्ल्ड टेलीकम्युनिकेशन एंड इनफॉर्मेशन सोसाइटी दोनों के रूप में मनाने का फैसला लिया।

- वर्ल्ड टेलीकम्युनिकेशन डे पूरी दुनिया में इंटरनेट और संचार के बारे में अवेयरनेस बढ़ाता है।

- इसका मकसद ग्लोबल लेवलपर टेक्नोलॉजी और इंटरनेट के बारे में सकारात्मकता फैलाना है।

- इस खास दिन का उद्देश्य सुदूर व ग्रामीण क्षेत्रों में रहने वाले लोगों के लिए सूचना और संचार दोनों को आसानी से सुलभ बनाना है।

भविष्य में दूरसंचार क्षेत्र में होंगे ये बदलाव

5जी टेक्नोलॉजी

- साल 2020 को 5जी का साल कहा गया, लेकिन कोरोना की वजह से इस पर ब्रेक लगा रखा है। 

- हालांकि 5जी नेटवर्क के इंफ्रास्ट्रक्चर में काफी बदलाव देखने को मिला है और आने वाले समय में इसमें काफी विकास होगा।

- दुनियाभर में 5जी नेटवर्क इंफ्रास्ट्रक्चर रेवेन्यू 4.2 बिलियन डॉलर को छूने की उम्मीद है, जो 89 परसेंट की साल दर साल की वृद्धि दर्ज करेगा।

क्लाउड कम्युनिकेशन

- 2025 तक दुनिया भर में लगभग 80 परसेंट बिजनेस क्लाउड कम्युनिकेशन पर निर्भर होंगे।

- खास बात यह है कि कोरोना महामारी इसके विकास को और तेज कर दिया है।

- साल 2020 तक, क्लाउड कम्युनिकेशन पर होने वाला खर्च कुल तकनीक पर होने वाले खर्च का 70 परसेंट है।

डाटा एंड इन्फ्रास्ट्रक्टर

- डाटा सेंटर इंफ्रास्ट्रक्चर मैनेजमेंट ने टेक्नोलॉजी को ऊपर ले जाने में काफी मदद की है।

- इसकी मदद से बिजली की खपत और स्वामित्व की लागत को कम करने में मदद मिलती है।

- इसका सबसे बड़ा फायदा है कि इसकी वजह से वैश्विक व्यापार में अरबो डॉलर बचते हैं।

- कंपनियों के साथ अब बिजली की खपत पर नजर रखने और नियंत्रण में मदद मिलेगी।

बिजनेस के लिए चैट एप

- आपको जानकर हैरानी होगी कि बिजनेस चैट एप्स पर एक मिनट में 41 मिलियन मैसेज भेजे जाते हैं।

- साल 2020 के अंत तक तीन अरब लोग चैट एप्स पर चैटिंग की, इसकी सबसे बड़ी खासियत चैट एप्स 24*7 उपलब्ध रहते हैं।

- इसके अलावा चैट एप्स आम सवालों के जवाब देने में सक्षम होंगे।

Pic credit- freepik

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.