Hindi Diwas 2021 Poem: अपने गुरुजनों और प्रियजनों को इन मशहूर कविताओं के जरिए दें हिंदी दिवस की शुभकामनाएं

Hindi Diwas 2021 Poem हिंदी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा को जन-जन तक पहुंचाना है और पूरे देश को एकसूत्र में बांधना है। वर्तमान समय में हिंदी देश में सबसे अधिक और दुनियाभर में तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है।

Pravin KumarMon, 13 Sep 2021 06:02 PM (IST)
हिंदी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा को जन-जन तक पहुंचाना है।

नई दिल्ली, लाइफस्टाइल डेस्क। Hindi Diwas 2021 Poem:  हिंदी दिवस हर साल 14 सितंबर को मनाया जाता है। इसे हिंदी के महान साहित्यकार व्यौहार राजेन्द्र सिंह के जन्मदिन पर मनाया जाता है। इतिहासकारों की मानें तो व्यौहार राजेन्द्र सिंह ने हिंदी को पहचान दिलाने में अहम भूमिका निभाई है। साथ ही काका कालेकर, मैथिलीशरण गुप्त, हजारीप्रसाद द्विवेदी, सेठ गोविन्ददास की भी प्रमुख भूमिका रही है। हिंदी दिवस मनाने का मुख्य उद्देश्य हिंदी भाषा को जन-जन तक पहुंचाना है और पूरे देश को एकसूत्र में बांधना है। वर्तमान समय में हिंदी देश में सबसे अधिक और दुनियाभर में तीसरी सबसे अधिक बोली जाने वाली भाषा है। रोजाना हिंदी के मान-सम्मान में बढ़ोत्तरी हो रही है। इस दिन लोग एक दूसरे को हिंदी दिवस की शुभकामनाएं देते हैं। साथ ही हिंदी विषय पर काव्य संगोष्ठी का भी आयोजन किया जाता है। इस मौके पर आप भी अपने प्रियजनों और गुरुजनों को इन कविताओं के जरिए शुभकामनाएं दे सकते हैं-

1.

गूंजी हिन्दी विश्व में

गूंजी हिन्दी विश्व में,

स्वप्न हुआ साकार;

राष्ट्र संघ के मंच से,

हिन्दी का जयकार;

हिन्दी का जयकार,

हिन्दी हिन्दी में बोला;

देख स्वभाषा-प्रेम,

विश्व अचरज से डोला;

कह कैदी कविराय,

मेम की माया टूटी;

भारत माता धन्य,

स्नेह की सरिता फूटी!

Happy Hindi Diwas 2021.

2.

हिंदी हमारी आन है हिंदी हमारी शान है

हिंदी हमारी चेतना वाणी का शुभ वरदान है।

हिंदी हमारी वर्तनी हिंदी हमारा व्याकरण

हिंदी हमारी संस्कृति हिंदी हमारा आचरण

हिंदी हमारी वेदना हिंदी हमारा गान है।

हिंदी हमारी चेतना वाणी का शुभ वरदान है।

हिंदी हमारी आत्मा है भावना का साज़ है

हिंदी हमारे देश की हर तोतली आवाज़ है

हिंदी हमारी अस्मिता हिंदी हमारा मान है।

हिंदी हमारी चेतना वाणी का शुभ वरदान है।

हिंदी निराला, प्रेमचंद की लेखनी का गान है

हिंदी में बच्चन, पंत, दिनकर का मधुर संगीत है

हिंदी में तुलसी, सूर, मीरा जायसी की तान है।

हिंदी हमारी चेतना वाणी का शुभ वरदान है।

जब तक गगन में चांद, सूरज की लगी बिंदी रहे

तब तक वतन की राष्ट्रभाषा ये अमर हिंदी रहे

हिंदी हमारा शब्द, स्वर व्यंजन अमिट पहचान है।

हिंदी हमारी चेतना वाणी का शुभ वरदान है।

Happy Hindi Diwas 2021.

3.

अगर हिंदी भाषा का करना है उत्थान,

तो हिन्दी को अपनाना होगा,

अंग्रेजी को “विषय-मात्र”,

और हिंदी को “अनिवार्य” बनाना होगा।

Happy Hindi Diwas 2021.

4.

करो अपनी भाषा पर प्यार ।

जिसके बिना मूक रहते तुम, रुकते सब व्यवहार ।।

जिसमें पुत्र पिता कहता है, पतनी प्राणाधार,

और प्रकट करते हो जिसमें तुम निज निखिल विचार ।

बढ़ायो बस उसका विस्तार ।

करो अपनी भाषा पर प्यार ।।

भाषा विना व्यर्थ ही जाता ईश्वरीय भी ज्ञान,

सब दानों से बहुत बड़ा है ईश्वर का यह दान ।

असंख्यक हैं इसके उपकार ।

करो अपनी भाषा पर प्यार ।।

यही पूर्वजों का देती है तुमको ज्ञान-प्रसाद,

और तुमहारा भी भविष्य को देगी शुभ संवाद ।

बनाओ इसे गले का हार ।

करो अपनी भाषा पर प्यार ।।

Happy Hindi Diwas 2021.

5.

हिंदी दिवस पर हमने ठाना है

लोगों में हिंदी का स्वाभिमान जगाना है,

हम सब का अभिमान है हिंदी

भारत देश की शान है हिंदी,

हिंदी से हिन्दुस्तान है

तभी तो यह देश महान है,

निज भाषा की उन्नति के लिए

अपना सब कुछ कुर्बान है।

Happy Hindi Diwas 2021.

This website uses cookie or similar technologies, to enhance your browsing experience and provide personalised recommendations. By continuing to use our website, you agree to our Privacy Policy and Cookie Policy.